अधिकारी के हस्ताक्षर के लिए पिता की परेशानी देखकर कलेक्टर बनने की ली शपथ, और बन गयी IAS अधिकारी

0
95

सरकारी अधिकारी हमेशा किसानों को चक्कर काटने के लिए मजबूर करते हैं. इस तरह किसान सरकारी दफ्तरों के कंधे पीट रहा था. शिक्षित नहीं था. वह जानना चाहते थे कि क्या सरकार ने किसी योजना की घोषणा की है. लेकिन वह बेबस होकर इधर-उधर भटकता रहा, लेकिन अधिकारियों ने वैसा नहीं किया।

किसान निराश होकर घर आया और अधिकारियों के व्यवहार के बारे में बात करने लगा. 9 साल की बच्ची ने उसे बात करते सुना. वह अपने पिता की लाचारी से दुखी थी. उसने उसी दिन फैसला किया कि वह अब कलेक्टर बनना चाहती है. आज, वह गर्व के साथ महाराष्ट्र का नाम दक्षिण के सर्वश्रेष्ठ कलेक्टरों में से एक के रूप में उठा रही है. आइए जानते हैं उनकी लाइफ जर्नी.

एक छोटे गांव के एक किसान की बेटी. गांव के आम किसान रामदास भाजीभाकरे की बेटी रोहिणी. रोहिणी बचपन से ही पढ़ाई में होशियार थी. लेकिन अपने पिता से मिले उपचार ने उन्हें जीवन में एक ऐसा उद्देश्य दिया जिसे उन्होंने पूरा किया. वह अपने पिता की हालत नहीं देखना चाहती थी.

रोहिणी की दसवीं तक की शिक्षा उपलाई गांव में हुई. दसवीं कक्षा के बाद बारहवीं शिक्षा के लिए सोलापुर गई थी. रोहिणी हमेशा स्कूल में टॉपर रही है. 12वीं के बाद रोहिणी ने पुणे में इंजीनियरिंग में प्रवेश लिया. उन्होंने पुणे के प्रतिष्ठित गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से इंजीनियरिंग पूरी की. सरकारी स्कूल के बाद वही शिक्षा सरकारी कॉलेज में पूरी हुई.

इंजीनियरिंग करने के बाद वह नौकरी पाने के जाल में नहीं फंसी. बचपन में उनके जीवन का एक उद्देश्य था. उसने उसी के अनुसार यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी. वह बिना कोई क्लास लिए खुद ही पढ़ाई करने लगी. उन्होंने कड़ी मेहनत की और 2008 में किसान की बेटी आईएएस बनीं. तमिलनाडु में एक महिला कलेक्टर के रूप में रोहिणी के काम को अक्सर नोट किया गया है. उन्हें कई बड़े पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है.

रोहिणी ने सेलम जिले की पहली महिला कलेक्टर के रूप में भी इतिहास रच दिया है. 1790 से जिले में 170 कलेक्टर हो चुके हैं लेकिन वे सभी पुरुष थे. रोहिणी इस जिले की पहली महिला कलेक्टर थीं. 2008 में, रोहिणी को तमिलनाडु के मदुरै में सहायक कलेक्टर के रूप में पहली पोस्टिंग मिली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here