एक रिक्शा चालक से शिवसेना के टॉप मंत्री, महाराष्ट्र की राजनीति में खेल बदलने वाले एकनाथ शिंदे

0
150

शिवसेना के महान नेता, ठाणे जिले के सरवेसर और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बाद कोई बड़ा नेता है तो वह एकनाथ शिंदे है. सभी गुजरात के सूरत के ला मेरिडियन होटल में ठहरे हुए थे. शिंदे,अघाड़ी सरकार, इस बैंड का विरोध कर रही है. ठाकरे की राज्य सरकार अल्पमत में है. राज्य में भूकंप आया है. एकनाथ शिंदे शिवसेना के एक धनी नेता हैं. आनंद दिघे के बाद उन्होंने ठाणे जिले की कमान संभाली. उनका सफर साधारण गार्ड से लेकर तोपखाना मंत्री तक का रहा है. शिंदे का रक्षा मंत्री से शहरी विकास मंत्री का प्रवास न केवल भ्रामक है, बल्कि कई लोगों के लिए प्रेरणादायक है.

एकनाथ शिंदे का जन्म 9 फरवरी 1966 को महाराष्ट्र में हुआ था. वह सतारा जिले के पहाड़ी जवाली तालुका और मराठी समुदाय से हैं. उन्होंने अपनी पढ़ाई 11वीं कक्षा तक ठाड़े में ही की. इसके बाद उन्होंने वागले एस्टेट इलाके में रहकर ऑटो चलाने का काम किया. दरअसल एकनाथ शिंदे ने अपनी राजनीति करियर की शुरुआत इसी वक्त की थी, क्योंकि इसी समय वह शिवसेना की सरकार में जुड़ गए और एक आम कार्यकर्ता के तौर पर अपना राजनीतिक करियर की शुरुआत की.

शिवसेना के हर आंदोलन में सबसे आगे रहने वाले एकनाथ शिंदे के लिए 1997 बेहद भाग्यशाली साल है. 1997 में आनंद दिघे ने ठाणे नगर निगम चुनाव का टिकट दिया. इस निर्वाचित शिंदे ने भारी जीत हासिल की. वह ठाणे नगर निगम के हॉल में नेता बन चुकी हैं. 2004 के मध्य मई विधान सभा के अध्यक्ष निर्वाणुक लधावली को सदन के नेता के रूप में चुना गया था. पहली बैठक में उनका चयन हुआ.

वह 2004 से लगातार चार वर्षों तक कोपारी पचपाखडी निर्वाचन क्षेत्र से विधायक के रूप में चुने गए हैं. शिवसेना विपक्षी दल 2014 के मध्य में तय हो गया होता. तब दिन की शुरुआत के 12 दिन हो गए होंगे. फिर शिवसेना के सत्ता में आने के बाद वे मंत्री बने. शिंदे 2015 के मध्य से 2019 के मध्य तक लोक निर्माण या विध्वंस मंत्री हैं. 2019 के मध्य में, उन्होंने कोपारी पचपखाड़ी विधानसभा क्षेत्र जीता. साधारण से लेकर ठाकरे तक शहरी विकास मंत्री आहत हुए.

विनम्र, मितव्ययी, कटु शिव सैनिक, पक्ष राजनीति कौशल या एकनाथ शिंदे का श्रेय पक्ष. 2014 की छाया मोदी लहर में भी शिंदे ने ठाणे में शिवसेना को गिरने नहीं दिया. शिंदे को कार्यकर्ताओं की आवाज सुनने की क्षमता और ‘जन आधार’ वाले नेता के रूप में जाना जाता है.

आनंदराव दिघे के बाद शिवसेना के अस्तित्व में शिंदे का योगदान महान है. ठाणे नगर पालिका, जिला परिषद, अंबरनाथ नगर परिषद, कल्याण-डोंबिवली नगर पालिका, बदलापुर नगर परिषद, डेप्सो से नासिकप्रियंत शिंदे यानी शिवसेना अनजान है. थान्या से लेकर नासिक तक शिंदे के इस शब्द को प्रमाण माना जाता है.

एकनाथ शिंदे गरीबी की शिक्षा देकर समस्या का समाधान निकालने की कोशिश कर रहे थे. उसने केवल दसवीं कक्षा तक सीखा. वह हमेशा अपनी पत्नी से बात करता रहता था. नतीजतन, उन्होंने 56 साल की डिग्री परीक्षा उत्तीर्ण की है, जो दर्शाता है कि शिक्षा यहां नहीं है.

शिंदे ने खिताबी दौड़ में 77.25 अंक हासिल किए हैं. ठाणे के ज्ञान साधना कॉलेज ने डिग्री परीक्षा उत्तीर्ण की है. 56 वर्षीय स्नातक के राज्य में पहले मंत्री होने की संभावना है. आंशिक अध्यापन को पूरा करने के लिए उन्होंने एक तरह का अधूरा अखाड़ा पूरा किया. उनकी शिक्षाओं ने भले ही काम किया, लेकिन उन्होंने चिरंजीव श्रीकांत शिंदे को डॉक्टर बना दिया. श्रीकांत हे ने कल्याण विधानसभा क्षेत्र के सांसदों को आहत किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here