एक ज़माने में पैसे नहीं होने की वजह से रेलवे स्टेशन पर सोते थे; आज है 400 करोड़ रुपये के मालिक

0
103

बॉलीवुड में भले ही एक से बढ़कर एक अभिनेता हों, लेकिन बॉलीवुड के कुछ बेहतरीन अभिनेताओं के बारे में जब भी कोई सोचता है तो देश के एक प्रसिद्ध अभिनेता अनुपम खेर का नाम दिमाग में आता है. अनुपम खेर देश ही नहीं विदेशों में भी अपनी बेहतरीन एक्टिंग के लिए जाने जाते हैं. अनुपम खेर ने बॉलीवुड ही नहीं हॉलीवुड की कई फिल्मों में भी काम किया है. अनुपम खेर अब तक 500 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं.

प्रारंभिक जीवन और संघर्ष

अनुपम खेर का जन्म 7 मार्च 1955 को शिमला में हुआ था. उनके पिता वन विभाग में क्लर्क के पद पर कार्यरत थे. खेर ने 9वीं कक्षा में अभिनय के प्रति अपने जुनून की खोज की. स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद खेर ने अर्थशास्त्र की पढ़ाई की.

लेकिन, उन्होंने पंजाब विश्वविद्यालय में भारतीय रंगमंच का अध्ययन करना छोड़ दिया. 1978 में, उन्होंने नई दिल्ली में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय से स्नातक किया. जब वे मुंबई चले गए तो खेर के पास पैसे नहीं थे. पैसा कमाने के लिए उन्होंने ऑडिशन और नाटकों में प्रदर्शन करते हुए वहां पढ़ाया.

एक समय खेर के पास कोई काम, पैसा या मदद नहीं थी. वह समुद्र तटों पर रहता था और प्लेटफार्मों पर सोता था. उसने लगभग हार मान ली और घर लौटने का फैसला किया. लेकिन, उनकी दृढ़ता और सफल होने के दृढ़ संकल्प ने उन्हें अपनी पहली फिल्म महेश भट्ट की सारांश हासिल करने में मदद की.

हालांकि, निर्माताओं ने उन्हें बताया कि उनकी जगह किसी ने ले ली है. खेर ने महेश भट्ट को फोन किया और कहा कि उनसे बेहतर भूमिका कोई नहीं निभाएगा. भट्ट ने देखा कि खेर जिस जोश के साथ अभिनय करना चाहते थे और उन्होंने उसे वापस लेने का फैसला किया.

अनुपम खेर का करियर

बहुत कम उम्र में अपने बाल झड़ने के कारण, खेर ने 1984 में 29 वर्ष की आयु में 65 वर्षीय व्यक्ति की भूमिका निभाई. फिल्म में खेर के प्रदर्शन ने उनकी प्रशंसा की, और उन्होंने सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार सहित कई पुरस्कार जीते.

1989 में, उन्हें डैडी में उनकी भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए फिल्मफेयर क्रिटिक्स अवार्ड मिला. उसी वर्ष, उन्होंने राम लखन में अभिनय किया, जो वर्ष की दूसरी सबसे अधिक कमाई करने वाली बॉलीवुड फिल्म बन गई. खेर को फिल्म में उनकी भूमिका के लिए आलोचनात्मक प्रशंसा भी मिली, और कई लोगों ने इसे उनका अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन बताया.

सबक हम सीख सकते हैं

अनुपम खेर जब बंबई पहुंचे तो उनके पास कुछ नहीं था. कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प के साथ, उन्होंने सफलता का मार्ग प्रशस्त किया। सफलता का कभी कोई शॉर्टकट नहीं होता. इसे प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत ही एकमात्र कुंजी है; यह हमें अनुशासन, समर्पण और दृढ़ संकल्प सिखाता है. आप अपने सपने पर जितनी मेहनत करेंगे, आप उतने ही ज्यादा आत्मविश्वासी बनेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here