कभी गांव में बिजली तक नहीं थी, पेड़ के नीचे बैठकर करते थे पढ़ाई, आज है 1.6 लाख करोड़ के मालिक

0
1168

सफलता पाने के लिए कड़ी मेहनत और लगन की जरूरत होती है. जय चौधरी ने दिन-रात मेहनत करके कामयाबी हासिल की है. जय हिमालय के छोटे से गांव में पले-बढ़े और आज वह दुनिया के अमीरों की लिस्ट में शामिल हैं. जय चौधरी देश के 10 अमीर लोगों की सूची में नौवें स्थान पर हैं. जय चौधरी ने न केवल भारत और अमेरिका में बल्कि पूरी दुनिया में साम्राज्य स्थापित करा है.

62 वर्षीय जय चौधरी साइबर सुरक्षा फर्म ज़ी स्केलर के मालिक हैं, जिसकी कीमत आज 28 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा है. जय चौधरी भारत के शीर्ष 10 अरबपतियों में से एक हैं. हुरुन ग्लोबल रिच लिस्ट 2021 में जय चौधरी 577 स्थान ऊपर बढ़े हैं और दुनिया के शीर्ष अरबपतियों में पहुंच चुके हैं. मगर उन्हें यह सफलता रातोंरात नहीं मिली.

शुरुआत से थी पढ़ने की लगन
जय चौधरी हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के पनोह गांव के रहने वाले हैं. जय चौधरी के पिता का नाम भगत सिंह और माता का नाम सुरजीत कौर है. तीन भाइयों में सबसे छोटे जय चौधरी की तीन बहनें हैं. उन्होंने वह समय भी देखा है जब उनके गांव में बिजली नहीं थी. वे पेड़ के निचे बैठकर पढ़ाई करते थे. जय चौधरी सरकारी स्कूल में पढ़ते थे.

इस तरह करी थी शुरुआत
जय चौधरी ने साल 2008 में ज़ी स्केलर कंपनी की शुरुआत की थी. इसके बाद कंपनी का आईपीओ 2018 में लॉन्च किया गया. उनके परिवार के पास वर्तमान में नैस्डैक-सूचीबद्ध ज़ी स्केलर शेयरों का 45 प्रतिशत हिस्सा है. इस कंपनी की मौजूदा कीमत करीब 28 अरब डॉलर है. चौधरी ने एक बार बताया था कि पैसे के लिए उनका प्यार कम था. उनका उद्देश्य सभी के लिए इंटरनेट और क्लाउड को सुरक्षित बनाना था ताकि हर कोई बिना किसी परेशानी के व्यापार कर सके.

कोरोना काल में हुआ सबसे ज्यादा मुनाफा
हुरुन की सूची के अनुसार, जय चौधरी की कुल संपत्ति पिछले साल 271 प्रतिशत बढ़कर 13 अरब डॉलर हो चुकी है. कोरोना काल में डिजिटल तकनीक के बढ़ते इस्तेमाल ने चौधरी की कंपनी को काफी मजबूती दी. कोरोना काल में लोगों ने जूम जैसे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग एप और नेटफ्लिक्स जैसे कंटेंट प्लेटफॉर्म का खूब इस्तेमाल किया. कोरोना काल में लोग वर्क फ्रॉम होम कर रहे थे. जिससे डिजिटल का इस्तेमाल बहुत तेजी से बढ़ा. उनकी कंपनी के आज के समय में 5000 से ज्यादा ग्राहक हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here