कभी ठेला लगाकर करी थी शुरुआत, आज हर महीने कमाती है 60 लाख रुपये; जानें क्या है आइडिया ?

0
133

अगर आप में हौंसला है और अपने सपनों को पूरा करने का जज्बा है तो चाहे कितनी भी बुरी स्थिति हो आपको वह झुका नहीं सकती. कड़ी मेहनत के ही दम पर व्यक्ति देर से आता है मगर उस मुकाम पर पहुंच जाता है, जहां सफलता उसके कदमों में होती है. पेट्रीसिया नारायण ने भी ऐसे ही सफलता हासिल करी.

पति ने छोड़ा तो वह जगह-जगह भटक कर अपना और बच्चों का पेट पालती थी. पेट्रीसिया की मेहनत और लगन रंग लाई और आज वह करोड़पति बन चुकी है. आज यह महिला हर रोज लाखों रुपये कमा रही हैं. तो आइए जानते हैं पेट्रीसिया नारायण के संघर्ष के दिनों से सफलता हासिल करने तक की कहानी.

पेट्रीसिया नारायण जीवनी

आपको बता दें पेट्रीसिया नारायण चेन्नई की रहने वाली हैं. वह ‘संदीपा’ रेस्टोरेंट चेन की डायरेक्टर हैं. रेस्टोरेंट के मालिक बनने तक का उनका सफर आसान बिलकुल भी नहीं था. उनके करियर की शुरुआत एक ठेले से हुई थी. जब पेट्रीसिया ने व्यापार किया तो उसे सफलता मिली. आज उनके साथ 200 से भी ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं.

इस तरह रहा था पेट्रीसिया का शुरुआती जीवन

जब वह 17 साल की थीं, तब उन्हें दूसरे धर्म के लड़के से प्यार हो गया था और पेट्रीसिया ने परिवार की सहमति के बिना उस लड़के से शादी कर ली. अपनी मर्जी से शादी करने के बाद, पेट्रीसिया के पिता ने पेट्रीसिया से संबंध तोड़ दिया.

पेट्रीसिया के पति एक ड्रग के आदि थे और वह पेट्रीसिया के साथ मारपीट करता था. एक समय ऐसा आया जब पेट्रीसिया ने महसूस किया कि परिवार के खिलाफ जाकर शादी करना गलत निर्णेय था. जब पति बहुत ज्यादा प्रताड़ित करने लगा तो फिर पेट्रीसिया बर्दाश्त नहीं कर पाई और उसने अपने पति से अलग होने का फैसला किया. उस समय पेट्रीसिया के दो बच्चे भी थे.

ठेला लगाने से करी थी शुरुआत

पेट्रीसिया ने बेसहारा होने के बाद भी हार नहीं मानी. बच्चों को खिलाने के लिए पेट्रीसिया ने चेन्नई के मरीना बीच पर ठेला लगाना शुरू कर दिया. पूरे दिन समुद्र तट पर ठेला लगाने के बाद उन्हें केवल 50 रुपये ही बचते थे. फिर भी उन्होंने हिम्मत नहीं मानी और मेहनत करते हुए एक समय ऐसा भी आया जब उनकी कमाई 25 हजार रुपये तक होने लगी.

इस तरह करी सफलता हासिल

फिर इसके बाद पेट्रीसिया ने स्लम क्लीयरेंस बोर्ड और नेशनल मैनेजमेंट ट्रेनिंग स्कूल में कैंटीन चलाना शुरू किया. इस काम से पेट्रीसिया को हर हफ्ते एक लाख रुपये तक कमाई होने लगी. फिर पेट्रीसिया ने अपनी बेटी की शादी भी धूमधाम से करी मगर कुछ समय बाद बेटी और दामाद की एक हादसे में मौत हो गई. बेटी की मौत से पेट्रीसिया पूरी तरह से टूट चुकी थी.

मगर इस बार उनके साथ उनका एक बेटा था. बेटे ने माँ को संभाला. फिर पेट्रीसिया ने दो कर्मचारियों के साथ मिलकर बेटी के नाम पर ‘संदीपा’ रेस्टोरेंट शुरू किया. रेस्तरां व्यवसाय सफल हुआ, आज इसके 14 आउटलेट हैं और 200 से अधिक कर्मचारी इनके रेस्तरां में काम भी करते हैं. आज उनकी रेस्तरां की कमाई करोड़ों में है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here