कभी मामा की दुकान में काम किया, शुरू किया बिजनेस; आज सालाना करते है 225 करोड़ रुपये का बिजनेस

0
128

जेड ब्लू के संस्थापक जितेंद्र चौहान कहते हैं, जितेंद्र ने अपने भाई विपिन चौहान के साथ मिलकर पुरुषों के परिधान के क्षेत्र में अपनी एक अलग पहचान बनाई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पिनस्ट्रिप सूट, जिसमें उनका नाम छोटे अक्षरों में लिखा था, जेड ब्लू में छपा था. इस सूट पर 4 करोड़ 31 लाख रुपये की बोली लगी और ‘जेड ब्लू’ को दुनिया भर में पहचान मिली. सफलता की यात्रा इतनी आसान नहीं है जितनी रातों रात लगती है.

अहमदाबाद से 100 किलोमीटर दूर लिंबडी में परिवार छह पीढ़ियों से सिलाई का काम करते थे. जितेंद्र के पिता चिमनलाल चौहान भी लिंबडी, मुंबई, कोलकाता में सिलाई की दुकान चलाते थे. लेकिन वह कहीं रुक नहीं सकता था. धार्मिक प्रवृत्ति और करुणा से भरे हुए, जितेंद्र के पिता अपनी शर्ट उतार कर जरूरतमंदों को दे देते थे. जितेंद्र केवल 5 वर्ष के थे जब अचानक उनके पिता ने सेवानिवृत्त होने का फैसला किया और जूनागढ़ की पहाड़ियों में चले गए. पिता के जाने के बाद सारी जिम्मेदारी मां के कंधों पर आ गई. चौहान टेलर्स जितेंद्र के पिता के साबरमती आश्रम के पास सिलाई की दुकान थी. आय का यही जरिया था.

एक साल बाद पूरा परिवार अहमदाबाद के रतनपोल चला गया जहां जितेंद्र की दादी रहती थीं. जितेंद्र अपने चाचा की दुकान में काम करने लगा. उनके चाचा की दुकान का नाम मकवाना ब्रदर्स था. उस समय जितेंद्र 13 साल के थे. फिर भी, वह नियमित रूप से स्कूल जाता रहा. मकवाना ब्रदर्स में काम करते हुए, जितेंद्र ने सिलाई कौशल सीखा और बटन होल मशीन कैसे संचालित की जाती है.

बाद में, 1975 में, जितेंद्र के बड़े भाई दिनेश ने अपनी खुद की सिलाई की दुकान खोली और इसका नाम बदलकर ‘दिनेश टेलर्स’ कर दिया. जितेंद्र उस समय कॉलेज में पढ़ रहा था. वह अपने भाई की दुकान में बहुत समय बिताते थे और इस तरह उन्होंने सिलाई के सभी विवरण सीखे. वह रोज 10-12 कमीजें सील करता था. इस दौरान उन्होंने मनोविज्ञान में डिग्री भी पूरी की.

1981 में, जितेंद्र ने अपनी खुद की सिलाई और कपड़े की दुकान शुरू की. बैंक ऋण की मदद से 1.5 लाख रुपये की लागत से 250 वर्ग फुट के क्षेत्र में ‘सुप्रीमो क्लोदिंग एंड मेन्सवियर’ नाम से परियोजना शुरू की गई थी. 1986 में उन्होंने रिटेल की ओर पहला कदम बढ़ाया और मुंबई की एक कंपनी के लिए कपड़े बनाए. दुर्भाग्य से, यह नहीं होना था. लेकिन इसके साथ ही जितेंद्र ने अपनी खुद की रेडीमेड दुकान खोली और इसका नाम ‘द पीक प्वाइंट’ रखा जहां रेडीमेड शर्ट मिलती थी. एक साल बाद जितेंद्र ने पतलून बनाना भी शुरू कर दिया. जितेंद्र ने अपने व्यवसाय में अच्छा प्रदर्शन करना जारी रखा. जितेंद्र का कहना है कि इसके पीछे ट्रेंडी डिजाइन, कस्टमर फ्रेंडली सर्विस और स्पीकिंग मीडियम है.

1995 में जितेंद्र ने 2800 वर्ग फुट के क्षेत्र में जेड ब्लू की स्थापना की. बेस्पोक सिलाई, कपड़े और निजी लेबल पर ध्यान केंद्रित किया. 1999 में, इसका विस्तार 5,500 वर्ग फुट तक हो गया. उनका काम एक बहु-ब्रांड आउटलेट में बदल गया, जिसमें पुरुषों के सौंदर्य प्रसाधनों के 12 राष्ट्रीय प्रीमियम ब्रांड थे. इसके द्वारा उन्होंने पुरुषों के कपड़ों के सभी हिस्सों को एक कवर के नीचे रखने की कोशिश की. अगले दो वर्षों में, जेड ब्लू के स्टोर में जींस और विशेष सांस्कृतिक कपड़े भी उपलब्ध कराए गए. 2003 में, ग्राहकों की मांग के जवाब में, उन्होंने एक ‘ग्रीनफाइबर’ स्टोर की स्थापना की, जिसमें मध्यम कीमतों पर नए उत्पादों की एक श्रृंखला पेश की गई. वर्तमान में ग्रीनफाइबर के 30 आउटलेट हैं, जिनमें से 8 फ्रेंचाइजी पर हैं.

आज, चौहान बंधु व्यक्तिगत रूप से नरेंद्र मोदी, अहमद पटेल जैसे प्रसिद्ध राजनेताओं और गौतम अडानी और करण भाई पटेल जैसे उद्योगपतियों को सिलाई सेवाएं प्रदान करते हैं. इतना ही नहीं 225 करोड़ रुपये के टर्नओवर वाले जेड ब्लू के फैमिली ग्रुप के देशभर में 1200 कर्मचारी हैं.

जितेंद्र चौहान ने विपरीत परिस्थितियों में भी अपने कौशल का विकास किया. उनके हुनर ​​का ही फल है कि आज उन्होंने हर रूप में सफलता हासिल की है. आज उनके पीछे साये की तरह दौलत और शोहरत है. यह उन युवाओं के लिए एक सबक है, जिन्हें अपनी क्षमताओं और कौशल के बारे में संदेह है. निरंतर प्रयास ही सफलता की कुंजी है. अपने प्रयासों में हमेशा पूरे समर्पण और उत्साह के साथ संलग्न रहें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here