कभी मिठाई बेचकर तो कभी दूध बेचकर चलाते थे घर, आज है ५० हजार करोड़ के बॅंक के मालिक

0
91

हमने अक्सर सुना है कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता। वयस्क अक्सर कहते हैं कि व्यक्ति को किसी भी काम में शर्म नहीं करनी चाहिए। किसी भी काम को कभी ना ना कहें। दूध बेचने से लेकर मजदूरी तक सभी कामों की सराहना की। ये शब्द अक्सर घर के बड़ों के मुंह से सुनने को मिलते हैं। आज हम एक ऐसे व्यक्ति के बारे में जानने जा रहे हैं जिसने अपना जीवन बड़ों की सलाह के अनुसार जिया है और आज इसे सफल बनाया है। न केवल अच्छी शिक्षा बल्कि उसकी सतर्कता और समर्पण की भी सबसे अधिक आवश्यकता है।

इस शख्स का नाम चंद्रशेखर घोष है। कभी पैसों की किल्लत से परेशान रहने वाले इस शख्स के पास अब एक बैंक है जो अरबों का कारोबार करता है। उनकी जीवन यात्रा कई लोगों के लिए प्रेरणा रही है। आइए संक्षेप में जानते हैं कि कभी मिठाई बेचकर तो कभी दूध बेचकर अपने परिवार की गाड़ी चलाने वाला यह शख्स कैसे 50 हजार करोड़ रुपये के बैंक का मालिक बन गया.

चंद्रशेखर का जन्म त्रिपुरा राज्य के अगरतला में हुआ था। उसके पिता मिठाई की छोटी सी दुकान चलाते थे। परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी। वह वैसी ही थी। मिठाई की दुकान से होने वाली सारी कमाई घर के खर्च पर खर्च हो जाती थी। मैं बस घर चलना चाहता था। लेकिन उनके पिता बच्चों को पढ़ाना चाहते थे। इसलिए वे अपना कुछ पैसा अपने बच्चों की शिक्षा पर खर्च करेंगे।

चंद्रशेखर परिवार की आर्थिक स्थिति से अच्छी तरह वाकिफ थे। इसी वजह से उन्होंने कम उम्र में ही दूध बेचना शुरू कर दिया था। वह सुबह जल्दी उठकर गांव में घर-घर जाकर दूध बांटता था। फिर वह स्कूल जाता था। स्कूल से लौटने के बाद भी चंद्रशेखर खाली नहीं बैठे। बच्चे जब स्कूल से आते थे तो ट्यूशन लेते थे। उसके बाद वह फिर से अपने पिता की मिठाई की दुकान में काम करता था। वह रात में खुद पढ़ाई करता था। चंद्रशेखर अच्छी तरह जानते थे कि लगन और मेहनत से ही उनकी गरीबी को कम किया जा सकता है। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद विश्वविद्यालय से स्नातक और स्नातकोत्तर की पढ़ाई पूरी की।

अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, चंद्रशेखर ने 5000 रुपये प्रति माह के वेतन पर लंबे समय तक काम किया। जिससे वह अपने परिवार के खर्चे में मदद करता था। लेकिन इससे भी उनके परिवार का खर्चा नहीं निकल पाया। 1990 में उन्होंने कुछ अलग करने का फैसला किया। उन्होंने बांग्लादेश में महिला सशक्तिकरण पर काम करने वाले एक निजी संगठन के साथ काम करना शुरू किया। संगठन ने उन्हें कार्यक्रम प्रमुख के रूप में चुना। संस्था ग्राम कल्याण समिति थी। इस संगठन के कारण, उन्होंने गाँव की महिलाओं की समस्याओं और उनके सामने आने वाली समस्याओं पर करीब से नज़र डाली।

उन्होंने महसूस किया कि गांव की महिलाएं बहुत कम काम करके अपने जीवन को बेहतर बना सकती हैं। उसी समय उनके मन में एक माइक्रोफाइनेंस कंपनी शुरू करने का विचार आया। उसने सोचा कि इन महिलाओं को ऋण देकर वे आत्मनिर्भर बनें और अपनी आर्थिक स्थिति में सुधार करें। उन्होंने इस विचार को लोगों के सामने रखा। इस प्रकार बंधन बैंक की शुरुआत 2001 में हुई थी। बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो सपने तो देखते हैं लेकिन उसे पूरा करना नहीं जानते। हालांकि चंद्रशेखर एक ऐसे शख्स हैं, जिन्होंने न सिर्फ सपना देखा बल्कि उसे पूरी लगन से पूरा भी किया।

आज, बंधन बैंक देश भर में लगभग 2000 शाखाएँ संचालित करता है। यह बैंक 100% रिकवरी रेट के साथ काम करता है। एक एनजीओ के रूप में शुरू किया गया यह बैंक अब अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों की सुर्खियों में है। 2018 में, बैंक ने 135 करोड़ रुपये का अंतरराष्ट्रीय निवेश किया। आज बंधन बैंक का बाजार मूल्य 50,000 करोड़ रुपये है। चंद्रशेखर अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को देते हैं। उन्होंने अपनी मां से हमेशा दूसरों के बारे में अच्छा सोचना सीखा। मेरे पिता ने मुझे दूसरों को खुद से आगे रखना सिखाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here