कभी रेलवे स्टेशन किनारें सोयें, बस स्टैंड पर ज्यूस बेचा; आज जबरदस्त आयडिया की बदौलत कमा रहा हैं लाखों रुपये

0
159

आज हम एक मध्यम वर्गीय परिवार के एक लड़के से मिलते हैं जो कुछ साल पहले महाराष्ट्र के संगमनेर बस स्टैंड पर जूस बेचता था। कुछ सालों में वही लड़का 40 लाख रुपये की अपनी कार घूमता है. सफलता जितनी बड़ी होगी, उसे पाने के लिए संघर्ष भी उतना ही बड़ा होगा, जिस बच्चे ने बचपन से सुना है कि हम गरीब हैं इसलिए हमें अपने साधनों को देखकर अपने पैर पसारने पड़ते हैं, यह सफलता मिली है.

लड़का है किरण गडाख, जिसका जन्म महाराष्ट्र के नगर जिले के संगमनेर में एक मामूली घर में हुआ था. माता-पिता किसान हैं. परिवार खेती कर घर चलाता था, किरण को बचपन से ही स्थिति का पता था, एक बच्चे के रूप में, उन्होंने खेत पर टमाटर और अन्य सब्जियां बेचने के लिए घर पर साइकिल चलाई, वह सब्जी बेचने बाजार भी जाता था. तभी किरण को पता चला कि जो मीठा और जोर से बोलता है वह जल्दी माल बेच देता है.

किरण ने दसवीं कक्षा तक गांव में ही शिक्षा प्राप्त की थी. घर में होशियार लड़के का उदाहरण देकर पढ़ाई करने को कहा. किरण ने भी 91 फीसदी अंकों के साथ 10वीं पास की. उन्हें बताया गया कि 10वीं तक पढ़ाई के बाद कोई टेंशन नहीं थी, लेकिन रिजल्ट आने के बाद कहा गया कि 2 साल और पढ़ाई करने के बाद जिंदगी सेट हो गई. तब उन्हें एहसास हुआ कि शिक्षा रुकने वाली नहीं है. ग्यारवीं और बारहवीं उन्होंने अपने गांव में किया. वहां उन्हें स्थिति से जूझना पड़ा.

अपने खाने के पैसे बचाने के लिए, वह 25 किमी दूर संगमनेर के लिए एक टिफिन लेता था. उसे दोनों बार एक ही टिफिन खाना था, गर्मी के दिनों में उन्हें अक्सर सब्जी खाकर भूखा रहना पड़ता था. वह गरीबी से जूझ रहा था उसका रूममेट एमबीए का छात्र था वे एलोवेरा जूस की बोतलें बेचने का प्रोजेक्ट लेकर आए उसने किरण से उसकी हालत को देखते हुए ऐसा करने को कहा. किरण को पैसों की जरूरत थी, वह उन जूस की बोतलों को संगमनेर बस स्टैंड पर बेचने लगा.

वह इस काम को जल्दी कर देता था ताकि लोगों को दिखाई न दे. लेकिन गांव के एक दोस्त ने उसे देखा और उसके काम की खबर पूरे गांव में फैल गई, फिर उसने शर्म को दूर करने का फैसला किया किरण को 12वीं में 88 फीसदी अंक मिले हैं. लोगों को उनसे बड़ी उम्मीदें होने लगी थीं. घर के सबसे होशियार भाई ने मुझे इंजीनियरिंग करने को कहा, परिवार ने फैसला लिया और उसे इंजीनियरिंग के लिए भेज दिया. उसने अपनी माँ के गले में सोना बेच दिया और उसकी फ़ीस भरदी.

इंजीनियरिंग की शुरुआत करते हुए उन्हें मार्केटिंग करने का मौका मिला. वह काम करते हुए उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई पूरी की. सभी दोस्तों ने कहा कि काम छोड़ो और नौकरी कर. लेकिन किरण कुछ अलग करना चाहता था. वह अपने सपने को लेकर पुणे पहुंचे. जहां उसके पास रहने के लिए कोई जगह नहीं थी, उसे कोई नहीं जानता था, वह 15 दिनों तक पुणे रेलवे स्टेशन पर सोया रहा. उनके पास हुनर ​​था.

किरण की जिंदगी बहुत बदल गई जब उन्होंने सोचना बंद कर दिया कि लोग क्या कहेंगे. पुणे में उन्होंने अपनी बोलने वाली आत्मा पर काम करना शुरू किया. किरण आज बड़े उद्यमियों को सबक सिखाती हैं. वह मार्गदर्शन और प्रेरित करने के लिए काम करता है. आज किरण दो कंपनियों की सीईओ हैं और उनसे सीखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं. उनके द्वारा 1 लाख से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया गया है और यह आज कई लोगों के लिए प्रेरणा बन गया है. किरण का मासिक कारोबार आज करोड़ों में है और उनके पास ऑडी जैसी महंगी कारें भी हैं..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here