कभी रोड पर चिकन बेचकर चलाते थे घर, अपनी मेहनत के साथ बढ़े आगे; आज है 15 करोड़ रुपये के मालिक

0
152

भारत के यॉर्कर किंग कहे जाने वाले टी नटराजन का सफर आसान नहीं रहा है. टी नटराजन, जो कभी टेनिस बॉल नहीं खरीद सकते थे, जो कभी अपनी मां के साथ सड़क पर चिकन बेचता था. आज टी नटराजन टेस्ट, वनडे और टी20 में भारतीय टीम के लिए क्रिकेट खेल रहे हैं. उन्होंने अपनी छाप छोड़ी है. आइए देखें क्रिकेटर बनने तक का उनका संघर्ष.

2020 के आईपीएल के खत्म होने के बाद भारत के इस उभरते हुए सितारे की चर्चा देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में शुरू हो गई. जो टेनिस बॉल खरीदना महंगा था वह लेदर बॉल से खेल रहा था. इस भारतीय यॉर्कर किंग का नाम थंगारासु नटराजन है.

टी नटराजन का जन्म 27 मई 1991 को तमिलनाडु के सलेम के छोटे से गांव चिन्नप्पमपट्टी में हुआ था. टी नटराजन का पूरा नाम थंगारासु नटराजन है. घर की हालत बहुत खराब थी. पापा नौकरी करते थे. उनकी माँ सड़क के किनारे चिकन बेचती थी. परिस्थितियों के चलते उनकी शादी भी जल्द ही हो गई थी.

घर्ष के दौरान, टी. नटराजन के परिवार को कभी-कभी एक समय का भोजन भी नहीं मिलता था. उन्हें भूखे पेट सोना पड़ा. ऐसे परिवार से आना लगभग असंभव है जो एक समय के भोजन के लिए महंगा हुआ करता था और क्रिकेट में इतना बड़ा हो जाता है. लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी.

जब वह टेनिस बॉल से क्रिकेट खेल रहे थे तो उनकी एक्शनपर पर सवाल उठाया गया था. उन्होंने कुछ दिनों के लिए खेलना बंद कर दिया लेकिन हार नहीं मानी. मैदान पर वापसी करने में वक्त लगा लेकिन जब आई तो सभी को हैरान कर दिया. उन्होंने एक ही ओवर में 6 यॉर्कर फेंककर सबको चौंका दिया. क्रिकेट खेलते समय अक्सर उनकी आर्थिक स्थिति के कारण मुश्किलें आती थीं.

उनके गुरु ए. जब से जयप्रकाश की नजर उन पर पड़ी, तब से जिंदगी नटराजन की ज़िन्दगी बदल गयी. उन्होंने उसे चेन्नई भेज दिया. जयप्रकाश सभी समस्याओं को दूर कर रहे थे. उन्हें पहली बार 2011 में तमिलनाडु से मौका मिला था. अच्छा प्रदर्शन किया. उनके प्रदर्शन ने उन्हें रणजी ट्रॉफी में जगह दिलाई. तमिलनाडु के लिए पहला रणजी ट्रॉफी मैच 5 जनवरी 2015 को खेला गया था. बाद में उन्हें किंग्स इलेवन पंजाब ने 2017 में 3 करोड़ रुपये में खरीदा था. लेकिन उन्हें छह मैचों में सिर्फ 2 विकेट ही मिले. बाद में वह चोटिल हो गए और नहीं खेले.

खराब प्रदर्शन की वजह से आईपीएल में 3 करोड़ रुपये की कीमत 40 लाख रुपये हो गयी थी. लेकिन इस कीमत पर उन्हें सनराइजर्स हैदराबाद ने खरीद लिया और उनकी जिंदगी बदल गई. आज आईपीएल में भी उनकी एक अलग पहचान है. रहने के लिए घर नहीं था. पैसा आने पर उन्होंने अपना पहले घर बनाया. गांव में बच्चों के लिए क्रिकेट अकादमी शुरू की.

टी नटराजन ने 2020 के आईपीएल में एबी डिविलियर्स जैसे दिग्गज बल्लेबाजों की तिकड़ी उड़ा दी थी. उन्होंने इस सीजन में 60 यॉर्कर फेंके थे. आईपीएल के बाद उन्हें ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए भारतीय टीम में जगह मिली. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया पर सीरीज जीत में अहम भूमिका निभाई थी. चक्रवर्ती की चोट के कारण उन्हें टीम में जगह मिली और उन्होंने इस मौके का भरपूर फायदा उठाया और सभी प्रारूपों में एक ही दौरे पर पदार्पण किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here