छोटी उम्र में खोया पिता का साथ, चार साल तक बनकर रहे सन्यासी, आज है 50 करोड़ रुपये के मालिक

0
2134

आज कोई भी छोटा या बड़ा व्यवसायी या पढ़ाई का छात्र या वह व्यक्ति जिसने जीवन में असफलता के कारण हार मान ली हो, डॉ विवेक बिंद्रा के वीडियो देखकर हर कोई मोटिवेट हो जाता है. और कई अपने-अपने क्षेत्र में नई ऊंचाइयों को भी छू रहे हैं. डॉ. विवेक बिंद्रा द्वारा बनाए गए वीडियो देखने वाला हर शख्स अपने अंदर एक नई ऊर्जा का अनुभव करता है.

कौन हैं डॉ. विवेक बिंद्रा

विवेक बिंद्रा एक मोटिवेशनल स्पीकर हैं और बिंद्रा दिल्ली में रहते होते है. मोटिवेशनल स्पीकर के अलावा, वह संस्थापक ग्लोबल एक्ट एक लेखक, यूट्यूबर, कॉर्पोरेट ट्रेनर, बिजनेस कंसल्टेंट और लाइफ कोच के साथ-साथ badabusiness.com के संस्थापक और सीईओ भी हैं.

ढाई साल की उम्र में खोया पिता का साथ

5 अप्रैल 1978 को दिल्ली में डॉ विवेक बिंद्रा का जन्म हुआ था. वह केवल ढाई साल के थे, जब बिंद्रा के सिर से उनके पिता की छाया उड़ गया. अपने पिता की मृत्यु के कुछ समय बाद, उनकी माँ ने भी दूसरी शादी की. माता-पिता के बिना जीवन जीना बहुत कठिन है.

विवेक बिंद्रा की जिंदगी में एक वक्त ऐसा भी आया जब उनके साथ कोई नहीं था और उस समय उन्होंने वृंदावन में एक साधु के रूप में चार साल बिताए. और वहां उनके गुरु ने उन्हें श्रीमद भागवत गीता की शक्ति के बारे में बताया और उन्हें श्रीमद भागवत गीता पढ़ने के लिए कहा.

ऐसे आया बिजनेस कोच बनने का आइडिया

एमबीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद विवेक बिंद्रा ने नौकरी नहीं बल्कि बिजनेसमैन बनने का फैसला करा. मगर शुरुआत में वह सोचते थे कि हर कोई बिजनेस करना चाहता है. लेकिन वह लोग आखिर सफल क्यों नहीं हो पाते? इन सभी विचारों ने उनके लिए उनके नए करियर का रास्ता खोल दिया. विवेक बिंद्रा ने फैसला किया कि मैं ऐसे लोगों को ट्रेनिंग दूंगा, जो लोग अपने व्यवसाय में सफलता प्राप्त करने में असफल होते हैं. पहले ढाई साल तक उनके पास कोई नहीं आया. जिससे वह और निराश होने लगे.

बाद में उन्होंने श्रीमद भागवत गीता ज्ञान के माध्यम से अपना जीवन बदलने की कोशिश की और इसमें वह पूरी तरह से सफल रहे. इस बार उन्हें अपने अंदर नई ऊर्जा का अहसास होने लगा. और वह इसे पूरी दुनिया के साथ साझा करने के लिए बेताब हो रहे थे. उनमें एक नए बिजनेस आइडिया का संचार हो रहा था. और इस बार उन्होंने जिसे भी बिजनेस से जुड़ी जानकारियां दीं, लोग उन्हें खूब पसंद करने लगे. और उनके ग्राहक भी बढ़ने लगे.

शुरू कर दिया यूट्यूब चैनल

जैसे-जैसे क्लाइंट्स बढ़ने लगे विवेक बिंद्रा खुद को स्मार्ट बनाते रहे. और 06 दिसंबर 2013 को डॉ. विवेक बिंद्रा: मोटिवेशनल स्पीकर नाम से एक यूट्यूब चैनल शुरू किया. उन्होंने शुरू में इस यूट्यूब चैनल पर अंग्रेजी में प्रेरक वीडियो अपलोड करना शुरू किया. मगर यह वीडियो लोगों को आकर्षित करने में नाकाम रहे. फिर बाद में उन्होंने लोकप्रिय ब्रांडों के हिंदी में अध्ययन वीडियो बनाना शुरू किया. और लोग विवेक बिंद्रा के हिंदी वीडियो को खूब पसंद करने लगे. जल्द ही उनके सब्सक्राइबर्स की संख्या भी बहुत तेजी से बढ़ने लगी.

अब लोगों की पसंद को देखते हुए विवेक वीडियो बनाकर लोगों को प्रेरित करने लगे. उनके वीडियोज को देखने के लिए लाखों में लोग आने लगे. आज के समय में उनके यूट्यूब चैनल के 19.1 मिलियन से अधिक सब्सक्राइबर हैं. उन्हें देखकर लाखों लोग और हजारों कंपनियां उन्हें अपना आइडल मानती हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here