जो लोग कहते हैं कि बिजनेस के लिए पैसे नहीं हैं, इस महिला ने 500 रुपये से खड़ा किया लाखों का बिजनेस

0
494

हम अक्सर व्यापार करने के बारे में सोचते हैं. लेकिन पूंजी एक बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्दा है. किसी भी व्यवसाय को करने में पूंजी की कमी सबसे बड़ी बाधाओं में से एक है. लेकिन हमारे आस-पास कई ऐसे लोग हैं जिन्होंने बहुत ही मुश्किल हालात से छोटा-मोटा कारोबार शुरू किया है और आज करोड़ों का कारोबार खड़ा कर लिया है. आज हम एक ऐसी महिला से मिलने जा रहे हैं जिसके पति ने कर्ज के कारण उसे छोड़ दिया और गांव छोड़ दिया. इस महिला ने 500 रुपये के कर्ज से अपना कारोबार शुरू किया था और आज वह लाखों का कारोबार कर रही है. आइए अब उनकी सफलता की कहानी से जानें.

महिला का नाम सुमित्रा शिवाजी शिराळ है. महाराष्ट्र के उस्मानाबाद तालुका के तेर गाँव की एक अशिक्षित महिला. सुमित्रा की शादी बहुत कम उम्र में हो गई थी. दुनिया का सपना लेकर अपने ससुर के पास गई सुमित्रा एक महीने के अंदर ही मुसीबत में फंस गई. उसका पति पहले से ही कर्ज में डूबा हुआ था. नतीजतन, उसके ससुराल वालों ने उसे और उसके पति को एक महीने के भीतर ही अलग कर दिया. पति कर्ज के कारण गांव छोड़कर चला गया. सुमित्रा का एक बड़ा सवाल था.

उसकी मां शादी से पहले कहती थी कि अगर मेरी बेटी ने कुछ नहीं किया तो वह मंदिर के सामने बेल के फूल बेच देगी. वही सुमित्रा को याद आया. वह उस लुक में जानती थी कि उसने उसे फेल कर दिया है. उसने शुरुआत में 5 फीसदी की दर से 500 रुपये लिए. उसने उसका नारियल खरीदा. उसने इसे मंदिर के सामने बेच दिया और पैसे इकट्ठा करना शुरू कर दिया. 500-800 हो गया. वह उतनी ही रकम जमा करती रही. उन्होंने न केवल नारियल बेचे बल्कि बाद में पौधे भी बेचने लगे. उसका कारोबार धीरे-धीरे बढ़ा.

उसका पति रोज उसके घर ब्याज देने आता था. उसने उनसे कहा कि हम आपको धीरे-धीरे भुगतान करेंगे. उसने अपने पति से यह भी वादा किया कि हम 6 महीने में आपके पैसे का भुगतान करेंगे. तब सुमित्रा ने अपने पति को गांव बुलाया. उन्होंने एक साथ नारियल का कारोबार शुरू किया. सुमित्रा ने धीरे-धीरे पैसे का भुगतान किया. बाद में उन्हें स्वयं सहायता समूह के बारे में पता चला. उसने इसके लिए भुगतान करना शुरू कर दिया.

बाद में उन्हें एक संगठन से कैंपस वर्कर के रूप में नौकरी मिल गई. वह काम भी नहीं जानती थी. वह पास के एक गांव में जाकर एक स्वयं सहायता समूह बनाना चाहती थी. सुबह काम था. उसने 2001 में शुरुआत की थी. वह ग्रुप बनाने गई महिलाओं को अपनी दुकान के बारे में बताती थी. इससे उनका कारोबार भी बढ़ेगा. उन्होंने महिलाओं की समस्याओं का समाधान करना शुरू किया.

वह दूसरों से पेड़े प्रसाद लेती थी और उसे बेच देती थी. लेकिन वह उस लुक में जानती थी कि वह सफल हो गया है. पढ़ाने वाला कोई नहीं था. लेकिन उसने सब कुछ अपने आप सीखा. उन्होंने खुद प्रसाद भरना शुरू किया. पैकिंग सीखी. फिर ग्राहक बढ़े और कारोबार बढ़ता गया. उनके काम को देखने के बाद 2004 में साक्षी सखी संस्था ने उन्हें सचिव बनाया. वह अपनी संस्था के माध्यम से उन महिलाओं को कर्ज देना चाहता था. इससे संगठनों और स्वयं सहायता समूहों का विकास हुआ.

उन्होंने देखा कि महिलाओं के स्वास्थ्य पर अधिक पैसा खर्च किया जा रहा है. उन्होंने स्वास्थ्य संबंधी प्रशिक्षण दिया. महिलाओं की स्वास्थ्य लागत में कमी. बचाना सिखाया. फिर उसने मुझे व्यापार में जाने के लिए कहा. कारोबार का मार्गदर्शन किया. इससे आसपास के सभी गांवों में सुमित्रा का बहुत अच्छा नाम हो गया. वह महिलाओं को अच्छी सलाह लेकर समूहों में लाती थी. उसने शादी के एक महीने बाद तक चाय भी नहीं पी थी. क्योंकि पति चला गया था, घर में चाय पाउडर या चीनी नहीं थी. वही सुमित्रा अब ठीक हो चुकी थी.

इस काम के लिए उन्हें कई पुरस्कार मिले. वह हमेशा महिलाओं से कहती हैं कि वे व्यवसाय करना बंद न करें क्योंकि उनके पास पैसा नहीं है. आपको अन्य लोगों के प्रति जो सहायता प्रदान करते हैं, उसमें आपको अधिक भेदभावपूर्ण होना होगा. उन्हें दिल्ली में वेंकैया नायडू से भी अवॉर्ड मिल चुका है. एक अज्ञात महिला आज दिल्ली आई है. आज गांव में मंदिर के सामने उसकी अच्छी दुकान है.

सुमित्रा हमें जीवन में कुछ करने के लिए प्रेरित करती है. क्योंकि वह एक ऐसी महिला है जिसके घर में चाय के लिए चीनी नहीं थी. वह महिला आज 3-4 हजार महिलाओं को ट्रेनिंग दे रही है. वहीं 4-500 महिलाओं का कारोबार शुरू किया गया है. आपको अन्य लोगों के प्रति जो सहायता प्रदान करते हैं, उसमें आपको अधिक भेदभावपूर्ण होना होगा. सुमित्रा ने दिखाया है कि जीवन में सफलता की कुंजी पूंजी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here