दादा-दादी ने 85 साल की उम्र में शुरु किया था बिजनेस, आज खरीदी अपनी पहली कार; प्रेरक कहानी

0
1851

जीवन में पहली बार कुछ करना हमेशा एक विशेष क्षण होता है, लेकिन हम कभी नहीं जानते कि वह अवसर कब आएगा. हर व्यक्ति की यह इच्छा होती है कि वह एक दिन अपने सपने को पूरा करे और इसके लिए वह अथक परिश्रम कर रहा है. कुछ लोग बड़े सपने देखते हैं और कुछ लोग छोटे सपने देखते हैं. लेकिन हर कोई अपने सपनों को पूरा करने के लिए ईमानदारी से प्रयास कर रहा है.

ऐसा ही एक उदाहरण गुजरात के एक बुजुर्ग ने 85 साल की उम्र में अपना सपना पूरा किया है. उन्होंने अपनी पत्नी के साथ एक स्टार्टअप कंपनी शुरू की. इसमें उन्हें सफलता मिली तो उन्होंने कार खरीदने का अपना सपना पूरा किया. उन्होंने अपनी खुशी भी सबके साथ शेयर की है.

बुजुर्ग दादा ने सबके लिए मिसाल कायम की है. जिन लोगों को लगता है कि सपने देखने या लक्ष्य का पीछा करने में बहुत देर हो चुकी है, वे एक महान उदाहरण हैं. गुजरात के ये दादा हीरो बनकर उभरे. एक 85 वर्षीय गुजराती उद्यमी बताते हैं कि कैसे उन्होंने सेवानिवृत्ति के बाद सफलता हासिल की, जिससे उन्हें अपनी पहली कार खरीदने में मदद मिली.

जून 2021 में, राधा कृष्ण चौधरी और उनकी पत्नी शकुंतला चौधरी ने एक आयुर्वेदिक हेयर केयर कंपनी अविमी हर्बल्स की स्थापना की. सेवानिवृत्ति के बाद राधाकृष्ण चौधरी अपनी बेटी के साथ रहने लगे. 50 साल से अधिक की मेहनत के बाद चौधरी ने पीछे बैठने की बजाय अपना नया स्टार्टअप शुरू किया. उनकी बेटी के बाल काफी झड़ रहे थे. यही कारण था जिसने उन्हें हेयर केयर कंपनी शुरू करने के लिए प्रेरित किया.

राधा कृष्ण चौधरी, जिन्हें नानाजी के नाम से जाना जाता है, ने बालों के झड़ने के कारणों पर शोध किया और बालों का तेल बनाने के लिए 50 से अधिक जड़ी-बूटियों का मिश्रण विकसित किया. अविमी हर्बल के इंस्टाग्राम चैनल पर वायरल हुए एक वीडियो में 85 वर्षीय ने कहा, “मेरी बेटी, अब मेरी बिजनेस पार्टनर है. वह गंभीर रूप से बालों के झड़ने से पीड़ित थी और उसने मुझे इसका समाधान खोजने के लिए कहा. लगभग एक साल तक इस विषय का अध्ययन करने के बाद, मैंने हर्बल तेलों का मिश्रण तैयार किया जिससे मेरी बेटी को बालों का झड़ना कम करने और बालों की बनावट में सुधार करने में मदद मिली.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here