देश की बॉर्डर पर सेवा करतें हुए क़ि UPSC की तैयारी, फिर वही जवान 19वीं रैंक हासिल कर बनें IAS अधिकारी

0
68

लुधियाना के दोहरा के रहने वाले हरप्रीत सिंह अपने शहर के आईएएस परीक्षा पास करने वाले पहले व्यक्ति बन गए हैं. उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा में 19वीं रैंक हासिल की थी. हरप्रीत इससे पहले असिस्टेंट कमांडेंट की परीक्षा भी पास कर चुका है. बाद में उन्होंने बीएसएफ जवान के रूप में देश की सेवा की.

हरप्रीत द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार पांचवे प्रयास के बाद उसे परीक्षा में सफलता मिली. वह अपने पहले प्रयास में मुख्य परीक्षा के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाए थे. लेकिन बाद के प्रयासों में, वह साक्षात्कारकर्ता के पास पोहचंते थे. 2017 में उन्हें 454वां स्थान मिला था. बाद में वह इंडियन ट्रेड सर्व्हिस में शामिल हो गए. हालांकि 2018 में उन्होंने दोबारा यूपीएससी की परीक्षा दी और 2019 में रिजल्ट में 19वीं रैंक हासिल करने में सफल रहे.

कॉर्पोरेट क्षेत्र में काम करते हुए कि परीक्षा की तैयारी

कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद हरप्रीत ने आईबीएम के लिए काम किया था. लेकिन उन्हें वहां काम करना पसंद नहीं था. कॉर्पोरेट क्षेत्र में काम करते हुए उन्होंने यूपीएससी परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी. हरप्रीत ने कहा कि जब वह यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहा था और उसके लिए कोचिंग कर रहा था. उसके बाद ही उन्होंने असिस्टेंट कमांडेंट की परीक्षा पास की. इसके बाद उनकी बीएसएफ में पोस्टिंग हो गई. हरप्रीत बीएसएफ में सहायक कमांडेंट के रूप में शामिल हुए.

बांग्लादेश की सीमा पर रहकर की परीक्षा तैयारी

हरप्रीत ने कहा कि बीएसएफ में फिजिकल ट्रेनिंग बहुत कठिन होती है. ऐसे में उनके पास UPSC की तैयारी के लिए समय नहीं था. बाद में उन्हें बांग्लादेश सीमा पर पश्चिम बंगाल में तैनात किया गया था. यहां रहते हुए भी उन्होंने सिविल सर्विसेज की तैयारी की.

हरप्रीत कहते हैं, नौकरी करते हुए मैंने दोबारा परीक्षा दी. इसी बीच मेरा सिलेक्शन ट्रेड सर्विसेज में हो गया. टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में हरप्रीत ने कहा, ‘मैं सिर्फ अपने नोट्स पढ़ता हूं. हरप्रीत ने सिविल सर्विसेज के अलावा कई परीक्षाओं को भी पास किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here