दो दोस्तों ने उधार के पैसो पर शुरू करी थी कंपनी, आज बन चुकी है 60,000 करोड़ रुपये की कंपनी

0
166

आज के समय में भारत में 50 फीसदी लोग इंडिगो के हवाई जहाज में सफर करते हैं. यानी हर दूसरा यात्री इंडिगो में सफर कर रहा है. मगर साल 2005 तक जिस कंपनी को कोई भी नहीं जानता था. कैसे उस कंपनी ने किंगफिशर, एयर इंडिया जैसी बड़ी दिग्गज कंपनियों को पछाड़कर भारतीय विमान उद्योग में अपनी पहचान बनाई. इसके पीछे एक बहुत ही दिलचस्प कहानी है. तो आइए जानते हैं इंडिगो एयरलाइन की सफलता की कहानी.

इस तरह शुरू हुई थी इंडिगो

राहुल भाटिया दिल्ली के रहने वाले हैं. राहुल भाटिया ने कनाडा में पढ़ाई करी और फिर इंडिया में आ गए. राहुल भाटिया के पिता कपिल भाटिया का ट्रैवल एजेंसी का कारोबार था. वे अपने पिता के व्यवसाय में नहीं जाना चाहते थे, इस वजह से अन्य व्यवसाय करने की बहुत कोशिश की लेकिन बात नहीं बनी.

इसी बीच राहुल के पिता बीमार रहने लगे और उनके पिता के कारोबार को संभालने की जिम्मेदारी राहुल पर आ गई. फिर राहुल ने कंपनी का नाम बदलकर ‘इंटरग्लोब इंटरप्राइजेज’ कर दिया और एयरलाइन टिकटों की फ्रेंचाइजी भी ले ली.

लंबे वक्त तक राहुल ने करा इसी सेक्टर में काम

राहुल ने लंबे समय तक इस क्षेत्र में काम करा. दूसरी तरफ राहुल के अमेरिकी दोस्त राकेश गंगवाल उनसे संपर्क में रहते थे. उन दिनों किंगफिशर, जेट और स्पाइसजेट जैसी प्राइवेट एयरलाइंस भारत में खूब पैसा कमा रही थीं. इस वजह से ही राहुल ने राकेश के सामने प्राइवेट एयरलाइन की शुरुआत करने का प्रस्ताव रखा.

सावधानीपूर्वक विचार-विमर्श के बाद, राकेश साझेदारी के लिए सहमत हुए और फिर साल 2004 में ‘इंटरग्लोब एविएशन’ की शुरुआत हुई और उन्हें एयरलाइन शुरू करने का लाइसेंस मिल गया.

इस तरह हुई इंडिगो सफल

इंडिगो की शुरुआत उधार के पैसे से हुई थी. इस कंपनी ने शुरुआत में अपने लिए उधारी पर विमान खरीदा था मगर यह कंपनी विमान खरीदने के बाद काफी ज्यादा सुर्खियों में आ गई थी. जिससे कई लोग इंडिगो को जानने लगे.

शुरुआत में इंडिगो ने 100 विमान खरीदे हैं. उस समय इंडिगो के पास सिर्फ 100 करोड़ रुपये थे. राकेश गंगवाल के साथ जान पहचान होने की वजह से एयरबस ने उधारी पर 100 विमान दे दिए और फिर यह कंपनी चल पड़ी. कंपनी ने 4 अगस्त 2006 से अपनी उड़ान शुरू करी थी.

इंडिगो ने अपना कारोबार साल 2006 में 100 विमानों के साथ शुरू करा था. मगर साल 2011 में कंपनी ने एक बार फिर लोगों को हैरान कर दिया. इंडिगो ने एयरबस को 180 विमानों का ऑर्डर दिया, जिसके बाद कंपनी ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानें भी शुरू कीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here