नौकरी गवाए हुए दो दोस्तों ने खोजा अजीबोगरीब बिजनेस, आज है 4 करोड़ रुपये का कारोबार

0
233

एक अच्छी नौकरी छोड़ने का आदेश अचानक प्रबंधन के पक्ष में आ जाए तो यह बहुत दुख की बात होगी. मौजूदा परिदृश्य में कंपनियां अपनी लागत कम करने के लिए ऐसा करती हैं. इसके चलते कई कर्मचारी मायूस हो जाते हैं. लेकिन ऐसे में हमें नए अवसरों का और अधिक साहस और आत्मविश्वास के साथ इंतजार करने की जरूरत है.

आज की स्थिति में ऐसे संकट का सामना करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए. इसी तरह, यह जानना रोमांचक है कि 2007 की मंदी के शिकार हुए दो दोस्त कैसे एक भयानक स्थिति से बाहर आए.

यह कहानी है दो दोस्तों सुजय सोहनी और सुबोध जोशी के स्टार्टअप ‘श्री कृष्णा वड़ा पाव’ की. परिस्थितियों ने उन्हें निराशा के गर्त में डूबने के लिए तैयार कर दिया था, लेकिन ये दोनों हार मानने वाले कहां थे? सुजय और सुबोध संकट से उबरकर 4.4 करोड़ रुपये का कारोबार कर रहे हैं. लंदन में उन्होंने त्वरित समाधान के लिए मुंबई वड़ा पाव की स्थापना की. आज ‘श्री कृष्णा वड़ा पाव’ के लंदन में 4 आउटलेट हैं. जहां वड़ा पाव से देशी-विदेशी ग्राहकों को अच्छा स्वाद मिलता है.

2009 में, जब वैश्विक अर्थव्यवस्था मंदी के दौर में थी, सभी बड़े और छोटे देश इसकी चपेट में आ गए. आर्थिक मंदी ने रोजगार को भी प्रभावित किया और कई को नौकरी से निकाल दिया गया. लंदन में काम करने वाले सुजय और सुबोध की भी नौकरी चली गई. सुजय एक फाइव स्टार होटल में ड्रिंक मैनेजर था. नौकरी छोड़ने के बाद आर्थिक तंगी बढ़ने लगी और वह पैसे की कमी से त्रस्त हो गया.

वहीं सुबोध भी नौकरी की तलाश में था. निराश होकर सुजय ने सुबोध से बात की. दोनों दोस्तों ने 1999 में मुंबई के बांद्रा के रिजवी कॉलेज में होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई की थी. सुजय ठाणे का रहने वाला था जबकि सुबोध वडाला का रहने वाला था.

दोनों लंदन में काम करते थे. बातचीत में सुबोध ने कहा कि उनके पास वड़ा पाव खरीदने के लिए भी पैसे नहीं हैं. और ‘वड़ा पाव’ उन दोनों के लिए एक अहम शब्द बन गया और उसी से उन्हें लंदन में वड़ा पाव बिजनेस का आइडिया आया.

15 अगस्त 2010 को उन्होंने ‘श्री कृष्ण वड़ा पाव’ शुरू किया. उस समय कम बजट में एक अच्छी साइट चुनना बहुत मुश्किल था. लेकिन एक आइसक्रीम पार्लर के मालिक ने झिझकते हुए उसे 35000 हजार रुपये (£400) के मासिक किराए पर एक जगह की पेशकश की. उन्होंने वड़ा पाव ₹ 80 (पौ 1) और ढेबली को 131 (पौ 1.5) में एक अन्य प्रकार के मुंबई नाश्ते के लिए बेचना शुरू किया. लेकिन इससे कोई प्रगति नहीं हुई और मुनाफा नगण्य था.

उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि वड़ा पाव के लिए बहुत कम मार्केटिंग होगी. दो फ्रेशर व्यापारी वड़ा पाव लेकर सड़क पर आ गए और उन्हें भारतीय बर्गर कहा जाने लगा. इसे नियमित बर्गर की तुलना में सस्ता और स्वादिष्ट कहा जाता है, और यह वास्तव में है.

जहां बर्गर 4 पाउंड (440) में था, वहीं यह भारतीय बर्गर 2 पाउंड (175) में आधे से भी कम का था. आगंतुकों को इसे मुफ्त में चखने की पेशकश की गई थी. उनकी यह रणनीति काफी कारगर साबित हुई और इसका फायदा यह हुआ कि जल्द ही वड़ा पाव लंदनवासियों के बीच काफी लोकप्रिय हो गया.

अब उनके व्यवसाय के लिए कैफे कम पड़ रहा है. और उन्हें और जगह की जरूरत महसूस होने लगी. तभी एक पंजाबी रेस्टोरेंट उनके पास साथ काम करने का ऑफर लेकर आया. सुजय और सुबोध दोनों ने प्रस्ताव को लाभकारी पाया और दोनों सहमत हो गए.

7 साल पहले लॉन्च हुए ‘श्री कृष्णा वड़ा पाव’ स्टॉल ने एक रेस्टोरेंट का रूप ले लिया है और अकेले लंदन में 4 रेस्टोरेंट हैं. उनके व्यवसाय में काम करने वाले 35 कर्मचारी हैं जिनका टर्नओवर 4 करोड़ रुपये है. जिसमें भारतीय, रोमानियाई और पोलिश मूल के लोग शामिल हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here