पिता ने एक साल की सैलरी जमा कर बेटे को भेजा अमेरिका, बेटा आज है 9000 करोड़ रुपये का मालिक

0
103

दोस्तों, आपके लिए क्या गर्व की बात है कि एक भारतीय को दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी गूगल के सीईओ के रूप में चुना गया है. आखिर हम भारतीयों के पास कुछ ऐसा है जो दुनिया को हमारा दीवाना बना देता है. दोस्तों आज के इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं सुंदर पिचाई की सफलता की कहानी, जिन्होंने तमिलनाडु की सड़कों का भ्रमण किया और दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी के सीईओ बने. दोस्तों इस ऊंचाई तक हर कोई नहीं पहुंच सकता, लेकिन इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं है अगर आप ईमानदारी से कुछ करना चाहते हैं.

सुंदर पिचाई का असली नाम सुंदर राजन पिचाई है. उनका जन्म 12 जुलाई 1972 को तमिलनाडु के एक छोटे से गांव में हुआ था. उनके पिता का नाम रघुनाथ पिचाई और माता का नाम लक्ष्मी है. सुंदर के पिता रघुनाथ पिचाई एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे और उन्हीं से पिचाई को तकनीक में भाग लेने की प्रेरणा मिली थी.

जब सुंदर पिचाई 12 साल के थे, तब उनके पिता घर में एक लैंडलाइन फोन लेकर आए थे. जो लोग आज दुनिया की सबसे बड़ी टेक कंपनी में शीर्ष पर हैं, उनके लिए तकनीक से जुड़ी यह पहली बात थी. सुंदर पिचाई में एक विशेष गुण था कि वह अपने टेलीफोन में डायल किए गए सभी नंबरों को आसानी से याद रख सकते थे. और आज भी जब उन नंबरों के बारे में पूछा जाता है तो उन्हें नंबर याद रहते हैं.

वास्तव में, न केवल फोन नंबर, बल्कि सभी प्रकार के नंबरों को आसानी से पहचाना जा सकता था. उन्होंने पढ़ाई में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया, क्रिकेट के दीवाने भी थे और अपने स्कूल क्रिकेट टीम के कप्तान भी थे. सुंदर पिचाई ने जवाहर विद्यालय में मैट्रिक की पढ़ाई पूरी की.

इसके बाद उन्होंने चेन्नई के वाना वाडी स्कूल में मैट्रिक की परीक्षा पास की और बाद में आईआईटी खड़गपुर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की. अपनी लगन और मेहनत के दम पर उन्होंने हर जगह उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और IIT में सिल्वर मेडल जीता. छात्रवृत्ति प्राप्त करने के बाद, उन्होंने आगे की पढ़ाई के लिए कैलिफोर्निया के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में दाखिला लिया और भौतिकी में विज्ञान में मास्टर डिग्री पूरी की. आखिरकार, वह एमबीए करने के लिए पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल गए.

गूगल में शामिल होने से पहले, सुंदर पिचाई ने मैकिन्से एंड कंपनी और एप्लाइड मैटेरियल्स में भी योगदान दिया. पिचाई पहली बार 2004 में गूगल से जुड़े थे. प्रारंभ में, उन्होंने गूगल खोज टूलबार पर एक छोटी टीम के साथ काम किया. गूगल पर काम करते हुए, सुंदर पिचाई ने अपना खुद का इंटरनेट ब्राउज़र बनाने के लिए एक नया विचार रखा.

जब पिचाई ने अपना इंटरनेट ब्राउज़र बनाने के बारे में गूगल के सीईओ से बात की, तो उन्होंने यह कहते हुए मना कर दिया कि यह बहुत महंगा है. लेकिन पिचाई ने हार नहीं मानी और दूसरे गूगल पार्टनर्स को मना लिया.

2008 में, सुंदर पिचाई की मदद से, गूगल ने अपना स्वयं का वेब ब्राउज़र लॉन्च किया, जिसे क्रोम कहा जाता है. आज गूगल क्रोम दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला वेब ब्राउजर है. यह गूगल में सुंदर पिचाई का टर्निंग प्वाइंट था. उनके समर्पण को देखते हुए उन्हें हर उत्पाद में शीर्ष स्थान मिला.

और जल्द ही पिचाई भी सीईओ की दौड़ में शामिल हो गए. गूगल के सीईओ बनने से पहले उन्हें माइक्रोसॉफ्ट और ट्विटर से भी ऑफर मिले, लेकिन उनकी लगन और मेहनत को देखकर गूगल ने उन्हें बोनस के तौर पर ढेर सारे पैसे देकर रोक दिया.

अंत में, 10 अगस्त 2015 को, सुंदर पिचाई को दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी गूगल का सीईओ नामित किया गया. इतनी बड़ी सफलता के पीछे सुंदर पिचाई के सरल स्वभाव का बहुत बड़ा हाथ है. उनके सरल स्वभाव के कारण सभी उनका सम्मान करते थे. साथियों, अंत में बस इतना ही कहना चाहता हूं, “जब आप अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लें तो एक ऊंची छलांग लगा लें. फिर यह बेकार है, आसमान की ऊंचाई.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here