पिता सब्जी बेचकर चलाते थे घर, उधार के जूते पहनकर करते थे तैयारी; आज है 5 करोड़ रुपये के मालिक

0
91

आईपीएल 2022 में अपनी खतरनाक गेंदबाजी से आग बरसाने वाले उमरान मलिक की आज सब लोग तारीफ कर रहे हैं. उमरान मलिक ने अपनी शानदार गेंदबाजी से बल्लेबाजों को खौफ से भर दिया है. क्या श्रेयस अय्यर और क्या हार्दिक पंड्या. उमरान मलिक की गेंदबाजी में बहुत से बल्लेबाज गिरफ्तार हो गए हैं. उमरान मलिक आईपीएल 2022 सनराइजर्स हैदराबाद की टीम से खेल रहे है. उमरान मलिक ने गुजरात टाइटंस (SRH vs GT) के खिलाफ बहुत ही शानदार तरिके से 5 विकेट लेकर सबको हैरान कर दिया था.

अब सवाल ये आता है कि आखिर हैरान का यह क्रिकेट का कैरीअर शुरू किस तरह से हुआ? आम दिनों की तरह ही साल 2017 में सर्दियों के दिनों में कोच रणधीर सिंह मन्हास जम्मू के नवाबाद के इलाके में मौलाना आजाद के स्टेडियम में क्रिकेट के खिलाड़ियों को अभ्यास करा रहे थे कि एक सिर्फ 17 साल का लड़का उनके करीब आ गया और उसने कहा.

सर क्या में गेंद डाल सकता हूँ. रणधीर सिंह मन्हास को यह बिलकुल अच्छी तरह से याद है कि तब जम्मू-कश्मीर की सीनियर टीम के बल्लेबाज जतिन वाधवान सामने क्रीज पर खेल रहे थे. फिर रणधीर सिंह मन्हास ने लड़के से उसका नाम पूछा और उसने कहा ‘उमरान मलिक’ रणधीर सिंह मन्हास ने फिर उस लड़के की गुजारिश को मान ली और उन्हें यह आज तक समझ में बिलकुल भी नहीं आया कि वे आखिर किस तरह से राजी हो गए थे. फिर उसी ही दिन एमए स्टेडियम पर इस शानदार तेज गेंदबाजी के उस तूफान का जन्म हो गया था जिससे अब आईपीएल 2022 में दुनिया भर के बल्लेबाज डर रहे हैं.

ट्रेनिंग में नहीं लगता था मन

17 साल की उम्र तक उमरान मलिक को किसी भी तरह की कोई भी कोचिंग नहीं दी गई थी और ना ही कभी भी उमरान मलिक चमड़े की गेंद से खेला हुआ था. वे मोहल्ला टेनिस बॉल टूर्नामेंट को खेलते होते थे जिसको खेलने पर उन्हें पांच सौ से लेकर 3000 रूपये प्रति मैच मिल जाते होते थे.

जम्मू के गुर्जर नगर के एक मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मे उमरान मलिक के पिता की स्थानीय बाजार में फलों की दुकान हुआ करती थी. उमरान मलिक के पिता यह चाहते थे कि उनका बेटा काफी अच्छी तालीम हासिल करे मगर फिर बाद में उन्होंने भी उसे क्रिकेट खेलने के लिये काफी ज्यादा प्रोत्साहित करा था.

उमरान मलिक को अकादमी में नामांकन के लिए कहा गया था लेकिन रणधीर सिंह मन्हास को याद है कि 2017-18 में वे कभी नियमित बिलकुल भी नहीं आता होता था. उन्होंने कहा, ‘वह एक दिन आते और अगले कई दिनों तक अनुपस्थित रहते. हमें उमरान मलिक को कहना पड़ा था कि उसे अभ्यास में अनुशासित होना पड़ेगा. रणधीर सिंह मन्हास ने कहा मैने उमरान मलिक को अंडर 19 ट्रायल के लिये भेजा था जिसमें उमरान मलिक ने किसी से जूते उधार मांगकर गेंदबाजी करी थी.

उमरान मलिक का शरीर भी है बहुत मजबूत

उमरान मलिक सनराइजर्स हैदराबाद का हिस्सा बनने से पहले कभी भी जिम नहीं गए मगर उमरान मलिक का शरीर बहुत ज्यादा मजबूत है. मन्हास ने कहा, उमरान मलिक तवी नदी के पास रहता है और उस नदी के किनारे की भूमि रेतीली है. उमरान मलिक उसी जमीन पर ही दौड़कर बड़े हुए है और शुरू में उमरान मलिक वहीं पर ही क्रिकेट खेला करते थे. इससे उमरान मलिक के शरीर का निचला हिस्सा भी काफी ज्यादा मजबूत हो गया.

जम्मू कश्मीर की क्रिकेट टीम में कश्मीरी के क्रिकेट के खिलाड़ियों का काफी ज्यादा दबदबा था लेकिन उमरान मलिक की मदद उनके ही साथी अब्दुल समद ने करी है, जो की खुद भी सनराइजर्स हैदराबाद टीम का हिस्सा हैं.

अब्दुल समद ने उमरान मलिक की गेंदबाजी के वीडियो वीवीएस लक्ष्मण और टॉम मूडी को जून 2020 में भेजे थे. उस समय पहले कोरोना की वजह से लगे हुए लॉकडाउन के बाद कुछ ही लोग अभ्यास कर रहे थे. सनराइजर्स हैदराबाद को उसके वीडियो काफी ज्यादा पसंद आये और फिर इस तरह उनकी टीम में एंट्री हुई और इस तरह से सनराइजर्स हैदराबाद और भारतीय क्रिकेट को एक उभरता हुआ नया सितारा मिल गया और उमरान मलिक के सपनों को मानों नये पंख लग गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here