माता-पिताने बेटे की पढाई के लिए बेच दिया था घर, आज बेटे ने खड़ी कि 7500 करोड़ रुपये की कंपनी

0
342

भारत में जहां तमाम संस्थाएं शिक्षा के दम पर करोड़ों रुपए कमाए रहे हैं. तो वहीं बहुत से ऐसे भी लोग हैं जो की पढ़ाई से बिलकुल ही वंचित रह जाते हैं. पढ़ाई का खर्चा महंगा होने से कई बच्चों का भविष्य रुक रहा है. प्रयागराज के रहने वाले अलख पांडे की कहानी भी कुछ इसी तरह ही है. जिन्होंने पैसों के अभाव में पढ़ाई नहीं छोड़ी, बल्कि आगे बढ़कर दूसरों के लिए इस रास्ते को आसान बनाना शुरू कर दिया.

कंपनी ने कहा कि फिजिक्सवाला ने 1.1 अरब डॉलर के मूल्यांकन पर धन जुटाया, जो भारत का 101वां यूनिकॉर्न बन गया है कंपनी ने कहा कि फिजिक्सवाला ने कहा कि वह व्यापार विस्तार, ब्रांडिंग, अधिक ऑफ़लाइन शिक्षण केंद्र खोलने और अधिक पाठ्यक्रम पेश करने के लिए धन का उपयोग करने की योजना बना रहा है.

पांडे ने इसके लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करा. चैनल पर ‘Physics Wallah’ नाम का चैनल क्रिएट करा. जिस पर इंजीनियरिंग पर फोकस करके वीडियो बनाने लगे. उनका ये जुनून रंग लाया, उन्हें गोल्ड प्ले बटन पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

पढ़ाई के लिए बेचना पड़ा था घर
प्रयागराज शहर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए जाना जाता है. जहां सबसे ज्यादा छात्र सरकारी और प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए आते हैं. अलख पांडे की प्रारंभिक शिक्षा और बाद में स्नातक भी इसी शहर में पूरी हुई इंजीनियरिंग की तैयारी के दौरान उन्हें भारी आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ा.

वह बताता है कि पैसों के अभाव में उनको साउथ मलाका का घर बेचना पड़ा. फिर उसके बाद उनका परिवार कालिंदीपुरम में रहने आ गया. साल 2011 में, पांडे ने परीक्षा उत्तीर्ण की और एचबीटीआई कॉलेज, कानपुर में प्रवेश लिया. साल 2015 में पढ़ाई पूरी कर लेने के बाद पांडे प्रयागराज लौट आए. यहां उन्होंने सामान्य रूप से एक कोचिंग क्लास खोली.

यूट्यूब ने करा था सम्मानित
पांडेय के अनुसार उनके मन में कहीं न कहीं उन बच्चों का ख्याल जरूर आता था, जो की पैसे के अभाव में पढ़ाई नहीं कर पाते थे. उन्होंने कोचिंग नहीं पढ़ाने का निर्णेय करा. फिर साल 2017 में चैनलपर ‘Physics Wallah’ नाम का चैनल बनाया. इसमें एनसीईआरटी पाठ्यक्रम पर आधारित विशेष इंजीनियरिंग प्रतियोगिताओं के लिए भौतिकी और रसायन विज्ञान विषयों को पढ़ाना शुरू करा. आज दो साल बाद चैनल के करीब 69.1 मिलियन सब्सक्राइबर हो गए हैं. अलख को गोल्ड प्ले बटन अवार्ड से नवाजा गया है.

कड़ी मेहनत से मिली सफलता
अलख के चैनल ‘Physics Wallah’ को हर महीने करीब करोड़ो दर्शक देखते हैं. अलख दुनिया में सबसे चर्चित ऑनलाइन गुरुओं में से एक के रूप में उभरे है. उनका कहना है कि पढ़ाई के शुरुआती दिनों में मुझे जिन मुश्किलों का सामना करना पड़ा था. आज मैं उसका समाधान अपने चैनल के माध्यम से देता हूं.

फिजिक्सवाला ने कहा कि वह बंगाली, मराठी, तमिल, तेलुगु, गुजराती, ओडिया, मलयालम और कन्नड़ सहित नौ स्थानीय भाषाओं में शैक्षिक सामग्री लॉन्च करना चाहता है. कंपनी ने कहा कि उसका लक्ष्य 2025 तक 250 मिलियन छात्रों से जुड़ना है. कंपनी ने कहा कि फिजिक्सवाला 20 ऑफलाइन कोचिंग क्लासरूम भी खोलेगी, जिसे वह पाठशाला कहती है. कंपनी ने दावा किया कि पीडब्ल्यू ने 2022-2023 सत्र के लिए नामांकित 10,000 से अधिक छात्रों के साथ 18 शहरों में 20 से अधिक केंद्र स्थापित किए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here