रतन टाटा को भी पसंद आयी पति-पत्नी की आइडिया; आज सालाना करते है 1 करोड़ रुपये का बिजनेस

0
232

उद्यमिता उन विचारों के बारे में है जो समस्याओं को हल करने की शक्ति रखते हैं. लेकिन इसे केवल विचारों तक सीमित नहीं रखना चाहिए, बल्कि जमीन पर इसे सफलतापूर्वक लागू करना चाहिए. एक व्यापारी बनने का अर्थ है मौजूदा उद्योग को चुनना और अपने ज्ञान का उपयोग करना, संसाधनों और संपर्कों का अच्छा उपयोग करना और लाभ कमाना. लेकिन एंटरप्रेन्योर बनने के लिए आपको कुछ नया करने की कोशिश करनी होगी.आपकी आयडिया को प्रत्यक्ष में लाने के लिए आपको बहोत से चुनोतिओ का सामना भी करना पड़ता है. लेकिन जब आप कुछ असामान्य आयडिया हो और आप उसे पूरा करने की हिम्मत रखते है तो रतन टाटा जैसे दिग्गजों का साथ मिलने में भी देरी नहीं लगेगी.

हमारे वर्तमान नायक अदिति भोसले-वालुंज और चेतन वालुंज ने उपरोक्त कथन को सिद्ध किया है. जब अदिति फोरेंसिक और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में पोस्ट ग्रॅजुएशन की पढ़ाई कर रही थी, तब चेतन ने 2015 में शादी करने से पहले अपने परिवार के पेट्रोल पंप को चलाया. अधिकांश विवाहित जोड़ों के विपरीत, अदिति और चेतन ने अपनी उद्यमशीलता को प्राथमिकता दी और अन्य मोर्चों पर साझेदारी करने का फैसला किया. वो दोनों कुछ अच्छा काम करने के लिए तैयार थे लेकिन अभी उनके पास कुछ आयडिया आयी नहीं थी.

अथक प्रयास के बाद उन्हें एक क्रांतिकारी विचार आया. सकारात्मक सोच से प्रेरित ‘रिपोज एनर्जी’ के बैनर तले उन्होंने ‘डेड माइलेज’ की एक उपेक्षित समस्या को हल करने का काम किया. यह ध्यान देने योग्य है कि वाणिज्यिक वाहन ईंधन स्टेशन पर और पीछे ईंधन भरने के लिए अनावश्यक ईंधन का उपयोग करते हैं और साथ ही अनावश्यक प्रदूषण भी करते हैं. इस समस्या से निजात पाने के लिए पति-पत्नी दोनों ने डीजल की होम डिलीवरी शुरू करने का फैसला किया.

अदिति ने एक विशेष इंटरव्यू में कहा, “हर दिन, भारतीय 27 करोड़ लीटर डीजल की खपत करते हैं, और हम ‘डेड माइलेज’ में अपने डीजल का 5-10% खो रहे हैं.”

हालांकि, डीजल की सुरक्षित होम डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है. आरएमपीपी (रिपोज मोबाइल पेट्रोल पंप) शुरू करने से पहले, उन्होंने इसे सुरक्षित और कुशल बनाने के लिए ऑटोमोबाइल उद्योग में अग्रणी कंपनियों से संपर्क किया. उनके विचारों की शक्ति ने रतन टाटा का ध्यान खींचा और उन्होंने पति-पत्नी दोनों को चर्चा के लिए आमंत्रित किया, उनके लिए एक सपना सच हो गया. रतन टाटा ने भी उनके प्रोजेक्ट के लिए मार्गदर्शन प्रदान करने का वादा किया. तब से यह रेपो टाटा मोटर्स और अन्य प्रमुख ऑटोमोबाइल कंपनियों के साथ काम कर रहा है.

ई-कॉमर्स के माध्यम से हमारा डीजल वितरण अकेले 2020-21 में 1600,000 लीटर बचा सकता है और 2023-24 तक 16,000,000 लीटर बचाने की उम्मीद है. इससे कार्बन उत्सर्जन घटकर 31,474,563,200 किलोग्राम रह जाएगा- चेतन ने बातचीत में कहा.

रिपोज ने हाल ही में अपने डबल डिस्पेंसर मोबाइल पेट्रोल पंप का अनावरण किया, जिसमें दो नई प्रौद्योगिकियां शामिल हैं जैसे दो हाई-स्पीड डिस्पेंसर और एक आईओटी कंट्रोलर. अतिरिक्त सुरक्षा के लिए उन्नत ब्रेक इंटरलॉक सिस्टम, जियो-फेंसिंग और एक ईंधन सेंसर. कंपनी ने अपने रेपो मोबाइल पेट्रोल पंप के लिए तीन पेटेंट दाखिल किए हैं. अपनी वर्तमान सफलता के आधार पर, कंपनी सीरीज-ए फंड में 30 30 मिलियन जुटाने और 3500 आरएमपीपी (रिपोज मोबाइल पेट्रोल पंप) इकाइयों को बेचने के लिए तैयार है.

“VO अल्फा एक नवाचार है जो भारतीय ईंधन वितरण प्रणाली में मदद करेगा और क्रांति लाएगा. द्रव संतुलन बनाए रखने के लिए मशीन स्थिरता त्रिकोण का उपयोग करती है और यह एक अग्निरोधक मॉडल है. अदिति का कहना है कि हमें कुछ ऐसा करने की जरूरत है जो आने वाले वर्षों के लिए गर्व का विषय हो.

महामरी के दौरान, उन्होंने डीजल की होम डिलीवरी को सफलतापूर्वक लागू किया है. महामारी के दौरान उनके प्रयासों ने एक उदाहरण के रूप में कार्य किया और ईंधन की होम डिलीवरी के महत्व को साबित किया. इस कपल की कहानी वाकई में काफी इंस्पायरिंग है. उन्होंने उद्यमिता को सही अर्थों में परिभाषित किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here