रस्ते में गाड़ी बंद पड़ने पर दिमाग में आया एक खतरनाक आइडिया; आज खड़ी कि 100 करोड़ रुपये की कंपनी

0
484

पैसा कमाना भला किस इंसान को पसंद नहीं होता है. बस इसके लिए कोई अच्छा बिजनेस आइडिया होना जरूरी है. एक सबसे अलग और यूनिक बिजनेस आइडिया किसी भी व्यक्ति को करोड़पति बना सकता है और बिलकुल ऐसा ही हुआ नोएडा में रहने वाले तीन दोस्तों के साथ.

साल 2014 तक ये तीन दोस्त हैं संदीप, टिकेन्द्र, और प्रतीक अलग-अलग प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते थे. एक दिन बातचीत करने के दौरान अचानक से इनको एक जबरदस्त आइडिया आ गया और फिर उस शानदार और यूनिक आइडिया पर इन तीनो दोस्तों ने काम करना शुरू कर दिया और आज एक कंपनी खड़ी कर दी और आज के समय में इस कंपनी का सालाना टर्नओवर 100 करोड़ से अधिक है. तो चलिए जानते हैं क्या करती है इनकी कंपनी और इनकी कहानी.

इस तरह से हुआ था सफर शुरू

दो दोस्त संदीप और टिकेन्द्र नोएडा में स्थित टेक की मशहूर कंपनी सैमसंग में नौकरी करते होते थे. वहीं एक दोस्त प्रतीक एक्सिकॉम में नौकरी करता होता था. टिकेन्द्र और प्रतीक ये दोनों दोस्त रूममेट थे. एक दिन ये तीनों दोस्त दिल्ली से कही पर बाहर घूमने के लिए चले थे, और फिर उस समय इनका बीच रास्ते में ही फ्यूल खत्म हो गया था.

तभी इन दोस्तों को रास्ते में लगभग 10 किमी तक के आसपास कोई भी फ्यूल स्टेशन बिलकुल भी नहीं मिला था. फिर उसी वक्त ही इन तीनो दोस्तों इस परेशानी को देखते हुए ऑनलाइन डीजल का कारोबार शुरू करने का सोच लिया और फिर उन्होंने साल 2015 में ही पेपफ्यूल डॉट काॅम (Pepfuel.com) नाम से इस कंपनी की शुरुवात कर दी.

इस स्टार्टअप को सरकार ने भी दी मान्यता

इस स्टार्टअप को सरकार द्वारा मान्यता भी प्राप्त हो चुकी है. पेपफ्यूल डॉट काॅम का इंडियन ऑयल के साथ थर्ड पार्टी एग्रीमेंट भी है. पेपफ्यूल डॉट काॅम डोर-टू-डोर डिलीवरी करने के लिए काम करता है. पेपफ्यूल डॉट काॅम से कोई भी ग्राहक आसानी से ऑनलाइन या फिर मैसेज की मदद से ऑर्डर कर सकते हैं.

ऐसे शुरू करा था कारोबार

पेपफ्यूल डॉट काॅम के फाउंडर टिकेन्द्र ने यह बताया कि इस बारे में उन्होंने बहुत ज्यादा रिसर्च करी थी. घर-घर में जाकर उन्होंने काफी लोगों से बात करी थी और फिर इसके साथ ही ऑनलाइन फीडबैक भी लिया. लिए हुए सभी फीडबैक में यह पता चला की हर दूसरे आदमी ने ऐसा ही कहा कि पेट्रोल-डीजल के लिए कोई न कोई ऑनलाइन ऐप जरूर होना चाहिए.

स्टार्टअप को तेल कंपनियों से भी मिला काफी सहयोग

स्टार्टअप के एक अन्य फाउंडर संदीप बताते हैं, ‘भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लि. (BPCL), हमने इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (IOC), और पेट्रोलियम प्रोसेस इंजीनियरिंग सर्विस को (PESCO) जैसी कई तेल की कंपनियों को अपना-अपना सुझाव भेजा था.’ उन्होंने यह भी बताया कि फरीदाबाद स्थित इंडियन ऑयल की तरफ से भी उन्हें उनके इस कारोबार का डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट यानी की DPR देने के लिए कहा गया. फिर उन्होंने अपने इस पुरे प्रोजेक्ट की DPR इंडियन ऑयल को भेज दी थी फिर अप्रूवल मिल जाने के बाद ही उन्होंने अपने इस कारोबार को शुरू कर दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here