रेलवे ने नहीं दी नौकरी तो IAS बनकर दिया करारा जवाब, 124वीं रैंक हासिल कर बनीं IAS अधिकारी

0
241

यदि आप जीवन में अपने लक्ष्य को जानते हैं और उसे प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करने को तैयार हैं, तो उस लक्ष्य को आसानी से पूरा किया जा सकता है. साहस, विश्वास और दृढ़ संकल्प के साथ शारीरिक अक्षमताओं पर काबू पाने से सफलता प्राप्त की जा सकती है. यह महाराष्ट्र के एक लड़की ने दिखाया है. नेत्रहीन होने के बावजूद, उन्होंने भारत में पहली नेत्रहीन आईएएस होने का सम्मान अर्जित किया है. महाराष्ट्र की यह लड़की बड़ी मशक्कत के बाद कलेक्टर पद तक पहुंची. आइए जानते हैं उनकी लाइफ जर्नी.

प्रांजल पाटिल जलगांव की रहने वाली हैं. उनकी स्कूली शिक्षा जलगांव में ही शुरू हुई थी. पढ़ाई में होशियार प्रांजल के जीवन पर बड़ा संकट आया. संकट उसकी कक्षा में एक दोस्त के कारण हुआ था. प्रांजल जब 6 साल की थी, तब उसकी कक्षा में एक छात्र ने पेंसिल से उसकी आंख में प्रहार किया. तभी उसकी दोनों आंखों की रोशनी चली गई. दृष्टि खोने के बाद, उसके माता-पिता ने उसे शिक्षा के लिए मुंबई के दादर (मुंबई) के कमला मेहता स्कूल में भेज दिया.

उसी स्कूल में दसवीं कक्षा तक पढ़ने के बाद प्रांजल ने 12वीं कक्षा में चंदाबाई कॉलेज में पढ़ाई पूरी की. पढ़ाई में काफी होशियार प्रांजल ने 12वीं में 85 फीसदी अंक हासिल किए. इसके बाद उन्होंने बीए के लिए मुंबई के सेंट जेवियर्स कॉलेज में दाखिला लिया. जेवियर में अपनी डिग्री पूरी करने के बाद, प्रांजल ने जेएनयू, दिल्ली में मास्टर डिग्री के लिए दाखिला लिया.

इसी बीच ग्रेजुएशन के बाद प्रांजल और एक दोस्त ने यूपीएससी के बारे में एक आर्टिकल पढ़ा. वह तब से यूपीएससी में रुचि रखती है. उसी दिन उसने कलेक्टर बनने का सपना देखा लेकिन उसने इस सपने के बारे में किसी को नहीं बताया. जेएनयू से एमए किया. प्रांजल ने जॉब एक्सेस विद स्पीच सॉफ्टवेयर का उपयोग करके अपनी शिक्षा जारी रखी. प्रांजल ने बहुत लगन से यूपीएससी की तैयारी की.

इस बीच, प्रांजल ने 2015 में एक केबल ऑपरेटर कोमल सिंह पाटिल से शादी की. उसने कोमल सिंह से शादी करने से पहले उस पर एक शर्त रखी थी. उन्होंने शादी से पहले एक शर्त रखी थी कि वह शादी के बाद पढ़ाई नहीं छोड़ेंगे. शादी के बाद भी यूपीएससी की तैयारी चलती रही। बिना किसी क्लास के तैयारी शुरू हो गई.

प्रांजल शारीरिक अक्षमता कोटे से यूपीएससी परीक्षा में शामिल हुईं. प्रांजल ने 2016 में अपने पहले प्रयास में UPAC पास किया था. उन्हें 773वां रैंक मिला है।. उन्हें भारतीय रेलवे लेखा सेवा (IRAS) भेजा गया था, लेकिन रेलवे ने उनके अंधेपन के कारण उन्हें नौकरी देने से मना कर दिया था. भले ही वह पहले ही नेत्रहीनता और परीक्षा पास कर चुकी थी, लेकिन उसे सही पोस्टिंग नहीं मिल रही थी. इसके खिलाफ लड़ने लगी.

उन्होंने रेलवे विभाग के खिलाफ लड़ते हुए यूपीएससी की तैयारी भी जारी रखी. और उसे 2017 के मध्य में फल मिले. 2017 की परीक्षा में प्रांजल ने देश में 124वां रैंक हासिल किया और आईएएस का पद हासिल किया. प्रांजल ने इसके बाद राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी, मसूरी में अपना प्रशिक्षण पूरा किया. 2 साल की ट्रेनिंग के बाद प्रांजल का सपना साकार हुआ. प्रांजल रेल विभाग की नाक पर कलेक्टर बने तिचुन.

आज प्रांजल पाटिल को देश की पहली नेत्रहीन महिला IAS अधिकारी के रूप में जाना जाता है. इस मराठमोल्या प्रांजल की पहली पोस्टिंग तिरुवनंतपुरम में डिप्टी कलेक्टर के तौर पर हुई थी. प्रांजल से आज की पीढ़ी के लिए बहुत कुछ सीखने को है. प्रांजल ने दिखाया है कि आपको केवल दृढ़ता की जरूरत है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here