लॉकडाऊन कि वजह से नौकरी गयी पर हार ना मानकर खोली खुदकी कंपनी, मेहनत से 2 महीनों में किया 2 करोड़ रुपये का टर्नओव्हर

0
102

कोरोना के कारण लॉकडाउन हुआ, और कई लोगों की नौकरी चली गई. कई के पास निर्वाह के मुद्दे थे. हालांकि लॉकडाउन ने कई सवाल खड़े किए, लेकिन कई लोगों ने अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने का मौका लिया. उनमें से कुछ ने अपने दम पर कुछ करने का फैसला किया और इस संकट में बड़ी सफलता हासिल की. ऐसा ही कुछ इस नगर जिले के एक शख्स के मामले में हुआ. लॉकडाउन के कारण उनकी नौकरी चली गई. एक फैक्ट्री में काम करता था. वहां से भी हटा दिया.लेकिन बिना हिम्मत हारे उन्होंने अपने दम पर कुछ करने का फैसला किया और ऐसा करके उन्होंने महज ढाई महीने में ही ढाई करोड़ का बिजनेस कर लिया.

ये कहानी है महाराष्ट्र के अहमदनगर के रहने वाले अनंत विजयराव ढोले. बचपन से ही स्कूल में होशियार. इन्फिनिटी स्कूल में हमेशा एक टॉपर रहा करता था. पाथर्डी 10वीं तक पढ़े थे. बाद में मैंने पुणे में प्रवेश किया, लेकिन 1-2 महीने में मुझे घर की बहुत याद आती थी, इसलिए पुणे में मेरे लिए कठिन समय था. अक्सर रोया. उसने 11 तारीख को अपनी एंट्री रद्द कर दी और शहर में दाखिल हो गया. वह बचपन से ही डॉक्टर बनना चाहता था. एमबीबीएस करना चाहता था. लेकिन दोस्तों की संगति के कारण बारवी को कम अंक मिले.

फिर मैंने बीएचएमएस करके डॉक्टर बनने का फैसला किया. बीड ने भी लिया दाखिला 2 साल के उचित प्रबंधन के बाद सवाल उठने लगे. मन प्रसन्न नहीं था. मुझे लगने लगा कि होम्योपैथी मेरा काम नहीं है. अगले साल पिता को बताकर एडमिशन कैंसिल कर दिया गया. जब मैं घर पहुँचा तो मुझे बहुत अफ़सोस होने लगा. मुझे बहुत सारे लोगों के चुटकुले सुनने थे। अनंत बहुत डिप्रेशन में चला गया. माता-पिता ने समर्थन किया.

उस समय मैं शहर में अपने दोस्त की मोबाइल की दुकान पर जाता था. भीड़ को देखकर लगा कि मुझे भी यह धंधा शुरू कर देना चाहिए. हमने भी यह बिजनेस करने का फैसला किया. उन्होंने 2005 में रुपये के किराए से दुकान शुरू की थी. दुकान 3 साल से अच्छा कर रही है. लेकिन मुझे लोगों के ताने सुनने पड़े. आपको बस इतना करना है कि नौकरी की तलाश करें.

2007 में जल संसाधन विभाग में रिक्त पदों की परीक्षा दी, जिसमे उनका २ नंबर से सिलेक्शन नहीं हुआ. इसके बाद उन्होंने बैंकिंग शुरू की. उन्होंने परीक्षा पास की और एक राष्ट्रीयकृत बैंक में नौकरी कर ली. यह सब सेट था. शादी भी हुई. इसी तरह के नौकरी हस्तांतरण थे. एक बार की बात है गढ़चिरौली का तबादला कर दिया गया. मैं वहां नहीं जाना चाहता था. इसलिए मैंने 15 दिन की छुट्टी ली. उन्होंने कई बार बैंक से ट्रांसफर रद्द करने की गुहार लगाई लेकिन बैंक ने नहीं सुनी. इसलिए उन्होंने गुस्से में इस्तीफा दे दिया. लेकिन फिर मुझे पछतावा होने लगा.

फिर जल्दी नौकरी नहीं मिल रही. आखिरकार मुझे एक चीनी कारखाने में नौकरी मिल गई. टिथ ने केवल 60 रुपये प्रतिदिन के लिए काम किया. 18,000 रुपये प्रति माह पर नौकरी छोड़ने और 1,800 रुपये प्रति माह की नौकरी पाने का समय आ गया था. डिप्रेशन बढ़ गया. स्थिति का सामना करना पड़ा. वेतन बढ़कर 7,000 हो गया. उसी समय, उन्होंने २ लाख रुपये का एक और कर्जा लिया. उसने ड्राइवर को उस पर बिठाया और किराए पर देने लगा.

लेकिन एक दिन फैक्ट्री ने अचानक उसे हटा दिया. बाद में मुझे एक संस्था में शाखा प्रबंधक की नौकरी मिल गई. उस संगठन के अधिकारियों के अनुरोध पर उन्होंने अपने ही गांव पाथर्डी में एक शाखा शुरू करने का प्रयास किया. अधिकारियों ने बताया कि संगठन की एक शाखा शुरू करने के लिए पहले साल में एक करोड़ रुपये जमा कराने होंगे. यह सुनकर मैं स्तब्ध रह गया. मैंने ऐसा नंबर कभी नहीं सुना था.

लेकिन आत्मविश्वास था. पाथर्डी शाखा को लोगों से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली. सिर्फ एक साल में 5 करोड़ रुपये जमा हुए. एक दिन यात्रा के दौरान मुझे दिल का दौरा पड़ा. तभी मुझे जीवन के महत्व का एहसास हुआ. फिर काम फिर बढ़ गया. संगठन ने 22 शाखाओं की जिम्मेदारी दी है. काम जोरों पर होने के दौरान कोरोना आ गया. बंद किया. वही संस्था जिसने दिन-रात काम करके इसे बड़ा बनाया, लॉकडाउन में बिना भुगतान के बस गया. तब मुझे बहुत बुरा लगा था.

अब अनंत ने अपने दम पर कुछ करने का फैसला किया. उन्होंने अपना संगठन शुरू करने का फैसला किया. चैतन्य अर्बन मल्टीपल फंड की स्थापना की गई. मैंने लॉकडाउन में एक संगठन शुरू करने की हिम्मत की और दिन-रात मेहनत की. नतीजा ये हुआ कि महज ढाई साल में उन्होंने 2.5 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है. एक और संगठन भी शुरू किया गया था. आज इन दोनों संस्थाओं का करोड़ों का कारोबार है. अनंत को लॉकडाउन में उनके आत्मविश्वासी व्यवसाय के लिए बधाई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here