1-2 नहीं बल्कि 14 अलग-अलग तरह के समोसे बेचकर ये पति-पत्नी सालाना कमाते है 7 करोड़ रुपये

0
117

अगर आप छोटी पार्टी देना चाहते हैं तो चाय-समोसा पार्टी एक अच्छा और सस्ता विकल्प होता है. आज हम बात करने वाले हैं समोसा पार्टी के बारे में. समोसा पार्टी नहीं, समोसा पार्टी नाम का एक स्टार्टअप के बारे में, जिसने हम भारतीयों के फेवरेट स्नैक समोसे को खास बना दिया और करोड़ों का कारोबार भी खड़ा कर दिया. ‘समोसा पार्टी’ स्टोर बैंगलोर में 15 स्थानों पर उपलब्ध हैं. अब गुरुग्राम में भी इसके स्टोर एवलेबल हैं. इस कंपनी के समोसे कई फूड डिलीवरी ऐप्स पर भी उपलब्ध हैं.

किस तरह आया था आ​इडिया

समोसे को अनोखा बनाने का विचार बैंगलोर के अमित नानवानी और दीक्षा पांडे को आया था और फिर दोनों ने मिलकर इसे एक ब्रांड बना लिया. दीक्षा ने सोचा कि पिज्जा, बर्गर, जैसे आइटम्स के तो खूब ब्रांड मार्किट में हैं, और अगर कोई शहर में समोसे खाना चाहते हैं, तो फिर उनको आस-पास की स्थानीय दुकानों पर निर्भर रहना होता हैं. लोगों के पास बर्गर, पिज्जा के जैसे समोसे के लिए भी कोई ऐसे विकल्प होने चाहिए ताकि वे ऑनलाइन ऑर्डर करें और ब्रांडेड समोसा उनतक पहुंच जाए. यही सोच से उन्हें बिजनेस का आइडिया आया.

14 तरह के समोसे करते है तैयार

समोसा पार्टी ब्रांड 14 तरह की फिलिंग वाले समोसे तैयार करता है. मतलब की यह ब्रांड 14 तरह के समोसे तैयार कर के मार्किट में बेचता होता है. समोसे के अंदर जो मसाले भरने हैं उनके अनुसार उन पर एक कोड डाला जाता है. दीक्षा और अमित कहते है कि जब तक आप एक अच्छा उत्पाद लोगो को देते रहेंगे, तब तक आप बाजार में बने रहेंगे. वे क्वालिटी से किसी भी तरह से समझौता बिलकुल भी नहीं करते हैं.

हर साल बेचते है 50 लाख समोसे

यह ब्रांड हर महीने लगभग 50,000 ऑर्डर ले पाती है और हर साल ‘समोसा पार्टी’ लगभग 50 लाख समोसे बेच देती हैं. स्टार्ट अप कंपनी का टर्नओवर भी करोड़ों में है और सालाना कमाई भी. ‘समोसा पार्टी’ का मुनाफा तेजी से बढ़ रहा है और यहीं से उनको हिम्मत आई और उन्होंने गुरुग्राम में अपनी यूनिट शुरू करी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here