10वीं कक्षा में 44 मार्क मिले ,लोगोके ताने भी सुने, इसलिए रोते न बैठ मेहनत करके बन गए IAS अधिकारी !

0
155

हमारे देश में स्कूल और कॉलेज में प्राप्त अंकों को अधिक महत्व दिया जाता है। हमारा बहुत दृढ़ विश्वास है कि एक छात्र को कुछ सफलता तभी मिल सकती है जब वह 10 वीं और 12 वीं में अच्छे अंक प्राप्त करे। लेकिन अकेले मार्क यह नहीं दिखा सकते कि आप कितने स्मार्ट हैं। इसके लिए कड़ी मेहनत करने का संकल्प आपको अपने लक्ष्य तक ले जा सकता है। यह अवनीश शरण ने दिखाया है, जो 10 वीं कक्षा में 44% ड्रॉप करने के बाद भी कलेक्टर बन गए हैं। अवनीश शरण की जीवन यात्रा कम अंक के कारण हारने वाले युवाओं के लिए काफी प्रेरणादायक है।

अवनीश शरण का जीवन वाकई प्रेरणादायक है। अवनीश शरण सबसे पहले तब सुर्खियों में आए जब उन्होंने अपनी बेटी वेदिका को एक निजी अंग्रेजी स्कूल के बजाय एक सरकारी स्कूल में दाखिला दिलाया। वह हमेशा लोगों को सही रास्ते पर ले जाते हैं। 20 जनवरी 1981 को बिहार में जन्मे अवनीश आज एक लोकप्रिय आईएएस अधिकारी हैं। 22 साल की उम्र में उन्हें कलेक्टर का पद मिला है। वह समस्तीपुर जिले के केवटा गांव के रहने वाले हैं.

अवनीश ने अपनी स्कूली शिक्षा और कॉलेज की शिक्षा बिहार में ही पूरी की थी। उनकी प्राथमिक शिक्षा गांव के सरकारी स्कूल में हुई। अवनीश ने अपने स्कूली जीवन में पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया। वह दसवीं में केवल 44% गिरा। वहीं 12वीं में उसने सुधार किया और 65 फीसदी अंक हासिल किए। अवनीश ने भी केवल 60% अंकों के साथ डिग्री पास की। लेकिन ऐसा कहा जाता है कि एक परीक्षा आपकी गुणवत्ता का निर्धारण नहीं कर सकती है। अवनीश ने काफी मेहनत से यूपीएससी की तैयारी की।

अवनीश ने मिथिला विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद आगे की पढ़ाई के लिए इलाहाबाद और दिल्ली आ गए। अवनीश के घर की आर्थिक स्थिति भी कुछ ऐसी ही थी। ऐसे में उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। अगर घर में रोशनी न हो तो वह अक्सर दीये की रोशनी में पढ़ाई करता था। अवनिशा बचपन में गांव में आने वाले आईएएस अधिकारियों से प्रेरणा लेती थीं।

अवनीश ने उन अधिकारियों को देखकर यूपीएससी करने का फैसला किया। 2009 में उनके प्रयास रंग लाए। अवनीश ने यूपीएससी की इतनी तैयारी की थी कि वह देश में 77वीं रैंक के साथ पास हुए। वह वर्तमान में छत्तीसगढ़ कैडर के अधिकारी के रूप में कार्यरत हैं। अवनीश पढ़ाई में कम पड़ जाते थे लेकिन उनमें आत्मविश्वास बहुत था। वह अपने पिता की मेहनत से प्रभावित थे।

अवनीश आजकल सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं। वे युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय हैं। वे हमेशा युवाओं को प्रोत्साहित करते रहते हैं। अवनीश न केवल एक अच्छा वक्ता है बल्कि वह अपने कार्यों में यह भी दिखाता है कि वह कितने उच्च विचारों वाला है। क्योंकि इतना बड़ा अधिकारी अपनी बेटी को सरकारी स्कूल में पढ़ाता है और अपनी पत्नी को भी सरकारी अस्पताल में पहुंचाता है। लोगों की मदद के लिए वे हमेशा सोशल मीडिया पर आपका नंबर देते हैं ताकि लोग उनसे सीधे संपर्क कर सकें।

अवनीश अपने कम अंकों की फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट करता है ताकि कम अंक वाले छात्र किसी बड़ी परीक्षा के परिणाम की बात आने पर कोई गलत कदम न उठाएं। वह छात्रों से कहते हैं कि कम अंक होने का मतलब फेल होना नहीं है। अवनीश को सोशल मीडिया पर लाखों लोग फॉलो करते हैं। लोगों की मदद के लिए हमेशा मौजूद रहने वाले अवनीश को प्रधानमंत्री मोदी ने एक बार सम्मानित किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here