107 करोड़ रुपये की ऑफर ठुकराकर चुनी गरीब बच्चों की शिक्षा; आज हैं भारत के प्रसिद्ध शिक्षक

0
183

खान सरन को हर कोई जानता है, जो देसी अंदाज में पढ़ाने के लिए युवा लड़कों और लड़कियों के बीच काफी लोकप्रिय हैं. खान सरन के वीडियो को देश ही नहीं विदेशों में भी लाखों लोग देखते हैं. चाहे बच्चे हों या प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र, उन्हें खान सरन के वीडियो का बेसब्री से इंतजार है.

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में एक मध्यमवर्गीय परिवार से आने वाले खान का पूरा नाम फैजल खान है. पिता इंडियन आर्मी में हैं, मां घर पर काम करती हैं. बड़े भाई भी भारतीय सेना में कमांडो हैं, इसलिए खान सरन भी भारतीय सेना में शामिल होकर देश की सेवा करना चाहते थे. उन्होंने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) की परीक्षा भी पास की, लेकिन शारीरिक कारणों से उनका चयन नहीं हो सका.

जब उनका भारतीय सेना में चयन नहीं हुआ, तो खान ने अपने बच्चों को शिक्षित करने का फैसला किया. इसी सिलसिले में खान सर बिहार की राजधानी पटना में बच्चों को पढ़ाने गए थे. जब वे पटना आए तो उन्होंने अपनी कोचिंग क्लास शुरू की और कम फीस पर बच्चों को जीएस पढ़ाना शुरू किया. खान सरन की शिक्षण शैली और किसी भी विषय को देसी शैली में समझाने की उनकी क्षमता के कारण छात्र उनके दीवाने हो गए.

छात्रों की संख्या इतनी बढ़ गई है कि कोचिंग कक्षाओं में जगह की कमी है. इसलिए, ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से बच्चों को शिक्षित करने के लिए, खान सरन ने 2019 में खान जीएस रिसर्च सेंटर के नाम से अपना यूट्यूब चैनल भी लॉन्च किया.

यूट्यूब पर खान सरन के वीडियो देखने वालों की संख्या भी बढ़ गई है. कोरोना काल में जहां कोचिंग संस्थान बंद था वहीं खान ने घर पर बैठकर बच्चों के लिए दैनिक समसामयिक मुद्दों के वीडियो पोस्ट करना शुरू कर दिया. लोग खान सरन की शिक्षण शैली से इतने प्रभावित हुए कि उनके वीडियो हर दिन लाखों में देखे जाते हैं. उपभोक्ताओं ने कुछ ही महीनों में 1 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है. आज, खान सरन के भारत के सबसे बड़े शैक्षिक चैनल, यूट्यूब पर 12.3 मिलियन ग्राहक हैं.

खान सरन ने पिछले साल अप्रैल में शादी की थी, कोरोना काल के चलते शादी की तारीख में बदलाव किया गया था. खान सर लोगों की बहुत मदद करते हैं, एनजीओ भी चलाते हैं. राजधानी पटना में एक अनाथालय भी चलाया जाता है, जहां जरूरतमंद बच्चों की देखभाल की जाती है और उन्हें मुफ्त शिक्षा दी जाती है. हमें खान सरन की प्रतिभा और उनकी शिक्षण शैली पर गर्व है.

हम कह सकते हैं कि उनका मासिक YouTube राजस्व लगभग 50 लाख रुपये से 2 करोड़ रुपये सालाना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here