2 भाई ने मिलकर 10 रुपये से शुरू किया भयंकर बिजनेस; आज खड़ी कर दी 150 करोड़ रुपये की कंपनी

0
234

कम ही किसी को पता था कि 15 साल पहले एक छोटी वितरण श्रृंखला के रूप में जो शुरू हुआ वह जल्द ही एक बड़े व्यापारिक साम्राज्य में बदल जाएगा. लेकिन हां, अग्रवाल बंधु अपनी कड़ी मेहनत और कभी हार न मानने के दम पर अपनी शॉर्ट सीरीज को 150 करोड़ रुपये के ब्रांड में बदलने में कामयाब रहे.

एक सामान्य परिवार में पले-बढ़े सचिन अग्रवाल और सुमित अग्रवाल द्वारा स्थापित सफलता का साम्राज्य वास्तव में प्रेरणादायक है. उनके पिता जे.पी. अग्रवाल ने कई व्यवसायों में अपनी किस्मत आजमाई, लेकिन परिवार की जरूरतों को पूरा करने से बेहतर कुछ नहीं कर सके. सचिन छोटी उम्र से ही होशियार लड़का था, क्लास में फर्स्ट रनर हुआ करता था, सभी ने उसमें एक बड़ा भविष्य देखा.

अपनी युवा यादों को याद करते हुए, सचिन कहते हैं, “शुक्र है कि हमें हमेशा “आप कुछ बड़ा करोगे” जैसे लोगों का आशीर्वाद मिला और मुझे लगता है कि इसने मेरे पक्ष में काम किया. सचिन एक चार्टर्ड एकाउंटेंट और उनके भाई सुमित, एक IIT इंजीनियर बनने की ख्वाहिश रखते थे. हालांकि आर्थिक तंगी के चलते दोनों अपना सपना पूरा नहीं कर पाए. लेकिन, उन्हें यह प्रेरणा जरूर मिली कि वह अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए जरूर काम करेंगे. नए विचारों और नई आशाओं के साथ उन्होंने आगे बढ़ने का फैसला किया.

हर बड़ी चीज की शुरुआत छोटे से होती है. इन विचारों के साथ, उन्होंने माइक्रोटेक और एक्साइड जैसी बैटरी वितरित करने के लिए 2006 में एक व्यवसाय शुरू किया. पहले महीने में उसने केवल 10 हजार रुपये कमाए. लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और अपने व्यवसाय को बढ़ाने के उद्देश्य से कड़ी मेहनत करते रहे. कहा जाता है कि जो मेहनत करता है, ऊपर वाले उसकी मदद करते हैं. ऐसा ही कुछ सचिन के साथ भी हुआ. इस बीच, तमिलनाडु को बिजली कटौती की एक बड़ी समस्या का सामना करना पड़ा और इससे बैटरी इनवर्टर जैसी वस्तुओं की बिक्री में वृद्धि हुई. इससे उन्हें काफी फायदा भी हुआ.

फिर साल 2013 में उन्होंने ल्यूमिनस बैटरी बांटना शुरू किया. एक आउटलेट बैंगलोर में शुरू किया गया था, लेकिन जल्द ही ग्राहकों की मांग के कारण 6 आउटलेट खुल गए. सचिन और उनके भाई 15 साल से बैटरी डिस्ट्रीब्यूशन बिजनेस में हैं. उनकी सफलता की कुंजी ब्रांड, वितरकों और ग्राहकों की समस्याओं को हल करना है. उन्हें लगता है कि यदि कोई व्यवसाय उभरती हुई समस्या का समाधान नहीं करता है, तो इसे व्यापक रूप से स्थापित नहीं किया जा सकता है. उन्होंने विभिन्न ब्रांडों के साथ अनुबंध किया है, कई राज्यों की यात्रा की है, समस्याओं पर शोध किया है और समाधान ढूंढे हैं, चाहे वे निर्माता हों या उपभोक्ता.

सचिन और उनके भाई 15 साल से बैटरी डिस्ट्रीब्यूशन बिजनेस में हैं. उनकी सफलता की कुंजी ब्रांड, वितरकों और ग्राहकों की समस्याओं को हल करना है. उन्हें लगता है कि यदि कोई व्यवसाय उभरती हुई समस्या का समाधान नहीं करता है, तो इसे व्यापक रूप से स्थापित नहीं किया जा सकता है. उन्होंने विभिन्न ब्रांडों के साथ अनुबंध किया है, कई राज्यों की यात्रा की है, समस्याओं पर शोध किया है और समाधान ढूंढे हैं, चाहे वे निर्माता हों या उपभोक्ता.

सचिन का मानना ​​है कि किसी भी व्यक्ति को वह व्यवसाय करना चाहिए जिसमें वह जुनूनी हो और उस विशेष उत्पाद या सेवा के बारे में भी ज्ञान होना चाहिए. ज्ञान के बिना एक नए क्षेत्र में प्रवेश करना सुरक्षित विकल्प नहीं हो सकता.

यह निश्चित रूप से जोश और कड़ी मेहनत से भरी एक प्रेरक कहानी है, जो साबित करती है कि दृढ़ संकल्प के साथ शुरुआत हमेशा सफलता के शिखर की ओर ले जाती है. सचिन का सफर इस बात का सबूत है कि आपकी किस्मत आपके हाथ में है और आप लगातार मेहनत से इसे सही दिशा में बदलने की क्षमता रखते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here