40 हजार से की थी बिजनेस की शुरुवात, सिर्फ एक आइडिया से खड़ी कर दी 400 करोड़ रुपये की कंपनी

0
163

एक व्यापारी के बेटे के लिए अपने पारिवारिक व्यवसाय को छोड़कर खुद एक उद्यमी बनना दुर्लभ है. वह या तो अपने पारिवारिक व्यवसाय में शामिल हो जाता है या एक लक्जरी नौकरी चुनता है. दिनेश अग्रवाल का जन्म एक बड़े व्यवसायी परिवार में हुआ था, लेकिन उन्होंने कभी उद्यमी बनने के बारे में नहीं सोचा.

दिनेश का गृहनगर उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले में नानपारा है. उन्होंने हरकोर्ट बटलर टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट, कानपुर से कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग में बीटेक किया. इसके बाद उन्होंने कई बड़ी कंपनियों में काम किया. उन्होंने सेंट्रलाइज्ड रेलवे रिजर्वेशन सिस्टम प्रोजेक्ट पर काम करते हुए सीएमसी लिमिटेड में अपना करियर शुरू किया. इसके बाद वह सी-डॉट (सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स) में शामिल हो गए.

इन कंपनियों में पांच साल काम करने के बाद वे अमेरिका चले गए, जहां उन्होंने एचसीएल टेक्नोलॉजीज में काम करना शुरू किया. अपनी तनख्वाह, लग्जरी लाइफ और अच्छे काम के बावजूद दिनेश को थोड़ी कमी महसूस हो रही थी. उसके दिमाग में बस एक ही बात आती थी कि वह अपना शेष जीवन एक ही काम करते हुए नहीं बिता सकता था. वे एक नीरस और एकाकी जीवन नहीं जीना चाहते थे. वे कुछ नया करने की कोशिश करना चाहते थे और नए अवसरों की तलाश करना चाहते थे. वह अपना खुद का व्यवसाय शुरू करना चाहता था. इसे ध्यान में रखते हुए वह 1996 में भारत लौट आए.

एक कंप्यूटर विश्लेषक होने के नाते, उन्हें सॉफ्टवेयर की अच्छी समझ थी और वह एक इंटरनेट उपयोगकर्ता थे. और इसलिए उन्होंने सॉफ्टवेयर सेवाओं में कुछ शुरू करने का फैसला किया. वे छोटे और मध्यम उद्यमों (एसएमई) के लिए अपने सभी उत्पाद जानकारी को वेब-पेजों पर प्रदर्शित करने के लिए एक मंच बनाने के बारे में सोच रहे थे. एक ऐसा प्लेटफॉर्म बनाया जाना चाहिए जहां एसएमई भी अपने उत्पाद बेच सकें. उन्होंने इस बिजनेस का नाम इंडिया मार्ट रखा.

दिनेश ने अपनी बचत से 40,000 रुपये अपनी कंपनी में निवेश किए. एक व्यवसाय शुरू करना आसान नहीं है, और इसलिए यह उनके साथ है. इस व्यवसाय में काम करने के लिए कंप्यूटर बहुत महत्वपूर्ण थे. और उस समय कंप्यूटर बहुत महंगे थे, और व्यवसाय में उनका बहुत कम उपयोग किया जाता था. दिनेश और उनकी टीम के लिए सबसे चुनौतीपूर्ण काम अपने ग्राहकों को प्रचार के लिए कंप्यूटर खरीदने के लिए प्रेरित करना है.

इसके अलावा कारोबार के लिए इंटरनेट कनेक्शन मिलना भी बाधित रहा. फास्ट फूड चेन Nirulus के रूप में उन्हें अपना पहला ग्राहक मिला. उस समय छोटी-छोटी फाइलों को अपलोड और डाउनलोड करने में काफी समय लगता था. उन्होंने एक समझौता किया जिसमें वे 32,000 रुपये की वार्षिक लागत पर अपनी वेबसाइट का विकास और प्रबंधन करेंगे.

उन्होंने ऐसे कर्मचारियों को काम पर रखा जो एक नए तरीके से मार्केटिंग करेंगे. उन्होंने इंडिया मार्ट को बढ़ावा देने के लिए प्रगति मैदान, नई दिल्ली में एक प्रदर्शनी का आयोजन किया था जिसमें उनके स्टाफ सदस्य टी-शर्ट पहने हुए थे और अपने ब्रांड का प्रचार कर रहे थे. जैसे ही ग्राहक की प्रोफ़ाइल IndiaMart के वेबपेज पर पोस्ट की गई, दुनिया भर से उस ग्राहक के उत्पाद के लिए एक पेशेवर पूछताछ शुरू की गई.

कई कंपनियों को वेब पर अपनी उपस्थिति के महत्व का एहसास होने लगा था, जिससे न केवल उन्हें बल्कि इंडिया मार्ट को भी फायदा हुआ. नतीजतन, पहले साल के अंत में, फर्म का कारोबार 6 लाख रुपये तक पहुंच गया. उस समय कंपनी में केवल नौ कर्मचारी थे.

जैसे-जैसे कारोबार बढ़ता गया, वैसे-वैसे जगह की भी जरूरत होती गई. 1996 से 1999 तक, उन्होंने चार कार्यालय बदले. एक नए कर्मचारी को काम पर रखने की लागत अधिक थी, लगभग 50,000 रुपये, क्योंकि प्रत्येक नए कर्मचारी को एक कंप्यूटर और उसके उपकरण खरीदने पड़ते थे. कुछ व्यवसायों को ई-मेल द्वारा अधिसूचित किया गया था, लेकिन कुछ व्यवसायों के लिए, जानकारी मुद्रित और ग्राहकों को फैक्स की गई थी. इन सब कारणों से लागत भी बढ़ रही थी.

इंडिया मार्ट का दूसरा कार्यालय 1998 में मुंबई में स्थापित किया गया था. 1999 तक, इंडिया मार्ट के 1,000 ग्राहक और 100 कर्मचारी थे. उनके व्यवसाय को बढ़ाने में उनके कर्मचारियों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है. जब 11 सितंबर, 2001 को हजारों वादी ने संयुक्त राज्य अमेरिका पर हमला किया, तो उनके व्यापार में 40% की गिरावट आई. आज, इंडिया मार्ट के देश भर के 20 शहरों में 50 कार्यालय और 2,500 कर्मचारी सदस्य हैं. अकेले नोएडा में इसके प्रधान कार्यालय में 800 कर्मचारी हैं. 2007 में, इंडिया मार्ट ने नोएडा में अपने नए कार्यालय के लिए 7 करोड़ रुपये की लागत से लगभग दो एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया.

कंपनी हर साल 30% की दर से बढ़ रही है. ताजा आंकड़ों के मुताबिक 2013-14 में इंडिया मार्ट का टर्नओवर करीब 300 करोड़ रुपए था, जो अब हजारों करोड़ में है. इसके अलावा, इंडिया नेट की अब लगभग 24,000 करोड़ रुपये की संपत्ति है. दिनेश अग्रवाल की कड़ी मेहनत और इनोवेटिव एक्सपेरिमेंट्स की बदौलत उन्होंने बिजनेस की दुनिया में एक नया मुकाम पाया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here