5 सरकारी नौकरी छोड़ी, गांव वालों ने कहा पागल हो गया है लड़का, आज बन गया IPS अधिकारी

0
130

असफलता को सफलता की पहली सीढ़ी कहा जाता है. लेकिन आज हम एक ऐसे शख्स से मिलने जा रहे हैं जो असफलता की सीढ़ी चढ़ गया. क्योंकि उन्हें 10 साल तक असफलता का सामना करना पड़ा था.

वह ग्रामीणों के लिए हंसी का पात्र था. वह घर फोन करके भी पता करता था कि कहीं उसके पास येदा तो नहीं है. 10वीं में सिर्फ 54 फीसदी अंक लाने वाला यह युवक यूपीएससी की परीक्षा पास कर आईपीएस अधिकारी बन जाता है. उन्होंने वर्षों से जो कड़ी मेहनत की है वह वास्तव में सभी युवाओं के लिए प्रेरणादायक है. आइए अब अपनी कठिन यात्रा से पता करें.

नासिक जिले के सिन्नार तालुका के एक छोटे से गाँव थोनगांव के रामचंद्र अंधले और हीराबाई अंधले के पुत्र भरत. उनका जन्म 1 सितंबर 1977 को हुआ था. रामचंद्र एक छोटे से खेत पर अपने परिवार का भरण-पोषण करते थे. लड़का धीरे-धीरे स्कूल जाने लगा. वह पढ़ाई में ज्यादा होशियार नहीं था.

पिता भी एक और शिक्षार्थी थे. भरत ने 10वीं तक की शिक्षा उसी गांव के जिला परिषद स्कूल में की थी. वह इतना क्रूड था कि 5वीं, 6वीं और 7वीं में गणित, अंग्रेजी और विज्ञान में फेल हो गया. मार्कशीट में पास (डिस्काउंट पास) का जिक्र होता था. लेकिन चूंकि भरत घर में मूर्ख है, इसलिए वह झूठ बोलता था क्योंकि उसके पास पूरा पास है.

भरत भी गर्मी की छुट्टियों में खेतों में काम करने जाता था. उस समय उन्हें केवल 10 रुपये प्रतिदिन मिलते थे. लेकिन तभी उसकी मुलाकात एक लड़के से हुई जो शहर में काम कर रहा था. लड़के की तनख्वाह एक हजार रुपये थी. उस समय भरत ने सोचा था कि दसवीं तक पढ़ोगे तो शहर में नौकरी मिल जाएगी.

उन्होंने आठवीं में पूरे विषय को अच्छी पढ़ाई के साथ पास किया. अंक 42 प्रतिशत था. वह नौवीं में 48% और दसवीं में 54% के साथ पास हुआ था. जब वे दस वर्ष के थे, तब वे नासिक गए और उन्हें हिंदुस्तान फास्टनर में एक कर्मचारी की नौकरी मिल गई. लेकिन वहां काम करते हुए उन्हें ज्यादा मजा नहीं आया. वहीं काम करते हुए उन्होंने पोस्ट ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई पूरी की थी.

बाद में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़कर पुणे पहुंचने का फैसला किया. वह वहां जाकर सरकारी अधिकारी बनना चाहता था. वहां उन्होंने पुणे विश्वविद्यालय में पढ़ाई की. उन्होंने कहा कि अगर आप यहां पीएसआई जितना पढ़ते हैं, तो आईएएस आईपीएस होगा. भरत ने भी तैयारी की और यूपीएससी करने का फैसला किया. वह कमाने और सीखने की योजना में काम करके सीखता था क्योंकि उसके घर की स्थिति खराब थी.

उन्होंने मुंबई जाकर यूपीएससी की तैयारी की. वह 2004-05 में दो बार प्री परीक्षा में फेल हो गया था. वह 2006-07 में मुख्य परीक्षा में भी फेल हो गया था. वह अंग्रेजी से डरता था इसलिए वह मराठी में परीक्षा देता था. लेकिन 2008 में उन्होंने अंग्रेजी में परीक्षा दी और मुख्य परीक्षा पास की. लेकिन इंटरव्यू में उन्होंने केवल अंग्रेजी में थ्रो किया और उन्हें पता था कि वे फेल हो जाएंगे. अगले साल फिर वही हुआ. उन्होंने मुख्य परीक्षा पास की. उन्होंने इंटरव्यू में अच्छे जवाब दिए और उनका चयन हो गया.

भरत ने 1-2 की जगह 5 सरकारी नौकरी छोड़ दी थी. तो लोग कहते थे कि हो सकता है ऐसा न हुआ हो लेकिन वो झूठ बोल रहे हैं. लोगों ने यह भी सवाल किया कि क्या उन्हें वास्तव में पीएसआई के रूप में चुना गया था. लेकिन भरत अपनी जिद से पढ़ाई करता रहा. उन्होंने आईएएस नहीं बल्कि गांव जाकर खेती करने का फैसला किया था. 4-5 असफलताओं के बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और आईपीएस बन गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here